बाल कविता : तितली, मौसम की रानी...

तुम मौसम की रानी हो 
अद्भुत एक निशानी हो ॥ 
 

 
रूप रंग में बढ़ चढ़ कर तुम 
बच्चों के लिए कहानी हो ॥
 
दूर देश से उड़ के आती ।। 
बच्चों के तुम मन को भाती ॥ 
 
वन उपवन में उड़ उड़ करके ॥ 
सब जगह की सैर कर आती ॥ 
 
शोभा बनती जगह-जगह तुम ॥ 
लगती कितनी प्यारी हो ॥ 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख हिन्दी कविता : जीवन-चक्र