Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

ऑस्ट्रेलिया ने जीता एशेज का पहला टेस्ट

हमें फॉलो करें webdunia
सोमवार, 27 नवंबर 2017 (08:57 IST)
बिसब्रेन। एशेज के पहले टेस्ट मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया के सामने 170 रनों का लक्ष्य था। डेविड वॉर्नर और बैनक्रॉफ्ट क्रीज़ मौजूद थे, दोनों ने 173 रनों की साझेदारी निभाकर अपनी टीम को 10 विकेट से शानदार जीत दिला दी।   
 
खेल के चौथी दिन यहां गाबा मैदान पर इंग्लैंड के खिलाफ जारी एशेज सीरीज के पहले टेस्ट मैच में जीत हासिल करने से 56 रन दूर थी। ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को दूसरी पारी में 195 रनों पर ढेर कर दिया था। इसी के चलते मेजबानों को 170 रनों का लक्ष्य मिला था। ऑस्ट्रेलिया ने दूसरी पारी में शानदार आगाज किया और चौथे दिन रविवार का खेल खत्म होने तक बिना विकेट खोए 114 रन बना लिए थे। जिस क्रम को ऑस्ट्रेलियाई ओपनर्स ने आज भी जारी रखा।
 
इस मुकाबले में ऑस्ट्रेलियाई ओपनर्स ने शानदार खेल दिखाया। कैमरून बैनक्रॉफ्ट 82 और उप-कप्तान डेविड वार्नर 87 रनों पर नाबाद रहे। इस दौरान बैनक्रॉफ्ट ने 182 गेंदों का सामना किया है और दस चौके तथा एक छक्का लगाया। वहीं वार्नर ने 119 गेंदों की पारी में आठ चौके जड़े।
 
इससे पहले, तीसरे दिन के स्कोर दो विकेट के नुकसान पर 33 रनों से खेलने उतरी इंग्लैंड टीम लगातार विकेट खोती रही। उसने चौथे दिन का पहला विकेट मार्क स्टोनमैन (27) के रूप में खोया। यहां से विकेट की झड़ी लगती चली गई और इंग्लैंड जल्द ही पवेलियन लौट ली। उसके लिए कप्तान जोए रूट ने सर्वाधिक 51 रन बनाए। मोइन अली ने 40 और जॉनी बेयर्सटो ने 42 रनों की पारी खेली। दूसरी पारी में आस्ट्रेलिया के लिए मिशेल स्टार्क, नाथन लॉयन और जोस हाजलेवुड ने तीन-तीन विकेट लिए। पैट कमिंस ने एक विकेट हासिल किया।
 
इंग्लैंड की टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 305 रन बनाए थे। जिसके जवाब में अपनी पहली पारी में ऑस्ट्रेलिया ने कप्तान स्टीवन स्मिथ (141) की शतक के दम पर 328 बनाते हुए 26 रनों की बढ़त ले ली थी और फिर इंग्लैंड को दूसरी पारी में जल्दी समेट दिया था। आसान से लक्ष्य(170 रन) का पीछा करने उतरी आस्ट्रेलिया को बेनक्रॉफ्ट और वार्नर ने मजबूत शुरुआत देकर टीम को जीत दिला दी।  कप्तान स्टीव स्मिथ को पहली पारी में शानदार शतक के लिए मैन ऑफ द मैच रहे। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

विश्व युवा मुक्केबाजी प्रतियोगिता में भारत के पांच स्वर्ण पदक