Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

ऑस्ट्रेलिया में खेली जाने वाली एशेज का बहिष्कार करेगी इंग्लैंड की पूरी टेस्ट टीम, यह है कारण

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 16 सितम्बर 2021 (11:04 IST)
लंदन: इंग्लैंड के शीर्ष खिलाड़ी इस साल के आखिर में ऑस्ट्रेलिया में होने वाली एशेज श्रृंखला का बहिष्कार कर सकते हैं क्योंकि वे वहां पृथकवास के कड़े नियमों के कारण चार महीने तक होटल के कमरों तक सीमित नहीं रहना चाहते हैं।

ईएसपीएन क्रिकइन्फो के अनुसार इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) अब भी अपने शीर्ष खिलाड़ियों को भेजने पर अड़ा हुआ है और उसने श्रृंखला स्थगित करने में बारे में नहीं सोचा है। इससे वरिष्ठ खिलाड़ी और सहयोगी स्टाफ नाराज है।

रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘टीम और ईसीबी अधिकारियों के बीच बातचीत के बाद एशेज में इंग्लैंड की अपेक्षाकृत कमजोर टीम उतारने की संभावनाएं बढ़ गयी हैं।’’

खिलाड़ी ईसीबी के रवैये से नाराज हैं क्योंकि उसने दौरे को आंशिक या पूर्ण रूप से स्थगित करने की उनकी मांग को सिरे से नकार दिया।

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘इसके परिणामस्वरूप वे अपने विकल्पों पर विचार कर रहे हैं जिसमें समझा जा रहा है कि पूरी टीम का दौरे के बहिष्कार का सामूहिक निर्णय लेना भी शामिल है। इसमें कोचिंग और सहयोगी स्टाफ भी शामिल है।’’
webdunia

किस करवट बैठेंगे जेम्स एंडरसन?

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने पिछले पाकिस्तान से हो रही सीरीज के दौरान ही यह साफ कर दिया था कि उनका लक्ष्य एशेज 2021 में इंग्लैंड के लिए खेलना है। ऐसे में अगर पूरी इंग्लैंड की टीम एशेज का बहिष्कार करती है तो क्या जेम्स एंडरसन भी उसका हिस्सा होंगे या नहीं यह देखने वाली बात है।

जेम्स एंडरसन उन चुनिंदा इंग्लैंड खिलाड़ियों में से है जो सिर्फ टेस्ट क्रिकेट ही खेलते हैं ऐसे में इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड तो यह ही चाहेगा कि अगर ज्यादातर खिलाड़ी इस एतिहासिक ट्रॉफी की सीरीज से नाम वापस लेते हैं तो कम से कम जेम्स एंडरसन टीम की ओर से जरुर खेलें क्योंकि ऑस्ट्रेलिया दौरे पर एक अनुभवी नाम कम से कम गेंदबाजी में होना जरूरी है।

संभावना यह भी है कि जेम्स एंडरसन खिलाड़ियों की बात ना मानकर बोर्ड की बात मान लें क्योंकि यह उनकी अंतिम सीरीज हो सकती है। इसके बाद तो उन्हें पेशेवर तौर पर अपने साथी खिलाड़ियों से लेना देना नहीं रहेगा। एक संभावना यह भी है कि अगर एंडरसन ही ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर अकेले अनुभवी नाम रहे तो बोर्ड उनको ही कप्तानी की जिम्मेदारी दे सकती है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

नखरे दिखाना भारी पड़ा मनिका बत्रा को, एशियाई चैंपियनशिप के लिए भारतीय टीम में नहीं हुई शामिल