Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

लोकेश राहुल की विकेटकीपिंग पर क्रिकेट विशेषज्ञों ने उठाए सवाल

webdunia
शनिवार, 18 जनवरी 2020 (19:09 IST)
बेंग्लुरु। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली जा रही वनडे सीरीज में भारतीय टीम के विकेटकीपर ऋषभ पंत के एवज में विकेटकीपर की भूमिका निभा रहे लोकेश राहुल पर क्रिकेट के ज्यादातर विशेषज्ञों को भरोसा नहीं है कि वह लंबे समय तक विकेटकीपिंग कर सकते हैं। 
 
टीम के नियमित विकेटकीपर ऋषभ पंत के चोटिल होने के बाद राजकोट में खेले गए दूसरे वनडे में राहुल ने विकेटकीपर बल्लेबाज की भूमिका निभाई। इसके बाद उनकी तुलना दिग्गज राहुल द्रविड़ से की जाने लगी जिन्होंने 70 से अधिक एकदिवसीय मैचों में मध्यक्रम के बल्लेबाज और विकेटकीपर की भूमिका निभाई थी। 
 
राहुल ने इस मुकाबले में 52 गेंद में 80 रन की ताबड़तोड़ पारी खेली जिससे भारत ने बड़े स्कोर वाले इस मुकाबले को 36 रन से जीता। कर्नाटक के इस खिलाड़ी ने जसप्रीत बुमराह और नवदीप सैनी की गेंद पर कैच लपकने के साथ रविन्द्र जड़ेजा की गेंद पर शानदार स्टंपिंग कर आरोन फिंच की पारी का अंत किया। 
 
भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज आकाश चोपड़ा का मानना है कि राहुल की विकेटकीपिंग राहुल द्रविड़ से बेहतर है। उन्होंने कहा कि दांए हाथ के इस बल्लेबाज को हालांकि दोहरी जिम्मेदारी नहीं दी जानी चाहिए। 
webdunia
चोपड़ा ने रविवार को यहां खेले जाने वाले निर्णायक एकदिवसीय की पूर्व संध्या पर कहा, ‘लोकेश राहुल विकेटकीपिंग के मामले में द्रविड़ से बेहतर हैं लेकिन मैं नहीं चाहूंगा कि उन्हें नियमित तौर पर यह जिम्मेदारी दी जाए। यह नहीं होना चाहिए की वह 50 ओवर विकेटकीपिंग करें और फिर शीर्ष क्रम में बल्लेबाजी करे।’ 
 
उन्होंने कहा, ‘अगर कोई बल्ले से अच्छा कर रहा है और वह टीम में कोई और योगदान दे सकता है तो इसका यह मतलब नहीं कि उसे विकेटकीपिंग भी करनी चाहिए। लोकेश राहुल एक विकेटकीपर बल्लेबाज के रूप में मेरे लिए बहुत कीमती हैं। इस तरह उसके कार्यभार को प्रबंधित करने के बजाय आप उसे बढ़ा रहे हैं।’ 
 
चोपड़ा ने कहा, ‘कभी कभार जरूरत के मुताबिक या टीम संयोजन के लिए वह ऐसा करते हैं तो ठीक है लेकिन लंबे समय तक आपको उन्हें 10000 रन बनाने का मौका देना होगा। वह अगर विकेटकीपिंग करते हैं तो यह संभव नहीं होगा।’ 
 
श्रृंखला से पहले ऐसा लग रहा था कि पारी का अगाज करने के मामले में रोहित शर्मा के जोड़ी बनाने के लिए शिखर धवन और राहुल के बीच टक्कर होगी। राहुल पर भरोसा करने वाले कप्तान विराट कोहली ने दोनों को अंतिम 11 में मौका दिया। राहुल मुंबई में खेले गए पहले एकदिवसीय में तीसरे जबकि राजकोट में 5वें क्रम पर बल्लेबाजी के लिए उतरे। 
 
भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर नयन मोंगिया का भी मानना है कि राहुल लंबे समय के लिए विकेटकीपर का विकल्प नहीं हो सकते। मोंगिया ने कहा, ‘वह टीम में शानदार दूसरे विकेटकीपर हो सकते हैं। वह एकदिवसीय में नियमित विकेटकीपर नहीं हो सकते हैं। टी20 अंतरराष्ट्रीय में यह चल जाएगा लेकिन एकदिवसीय में नहीं। टीम में नियमित विकेटकीपर होना चाहिए।’ 
webdunia
उन्होंने कहा, ‘अगर वह नियमित तौर पर विकेटकीपिंग करेंगे तो उनकी बल्लेबाजी प्रभावित होगी। वह टीम के लिए विकेटकीपर की जगह एक बल्लेबाज के तौर पर ज्यादा अहम है।’ 
 
राहुल को इससे पहले भी विकेटकीपर की भूमिका भी निभानी पड़ी। राहुल अंडर-19 विश्व कप में विकेटकीपिंग कर चुके हैं। वह कर्नाटक के लिए और इंडियन प्रीमियर लीग में भी यह भूमिका निभा चुके हैं। नियमित विकेटकीपर ऋषभ पंत के चोटिल होने के बाद राहुल को यह जिम्मेदारी सौंपी गई। 
 
राहुल ने कहा, ‘विकेटकीपिंग एक चुनौती है। यहां तक कि मैं कुछ अवसरों पर कुलदीप (यादव) और (रविंद्र) जडेजा की गेंदों की गति नहीं समझ पाता। मुझे अपनी प्रथम श्रेणी टीम के साथ इस तरह की गेंदबाजी का सामना नहीं करना पड़ा था। मुझे जो भी जिम्मेदारी सौंपी जा रही है मैं केवल उसका आनंद उठा रहा हूं और अपनी तरफ से सर्वश्रेष्ठ करने का प्रयास कर रहा हूं।’

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

लगातार 21 मेडन ओवर डालकर रिकॉर्ड बनाने वाले Bapu Nadkarni का निधन