Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

धोनी पर शास्त्री ने किया बड़ा खुलासा, सचिन से भी बेहतर हैं इस मामले में

webdunia
गुरुवार, 27 जनवरी 2022 (12:27 IST)
पूर्व कोच रवि शास्त्री भारतीय क्रिकेट टीम के कोच पद से हटने के बाद कई इंटरव्यू और मीडिया से बातचीत के दौरान सुर्खियों में छाए हुए है। उन्होंने हाल ही में पूर्व भारतीय कप्तान और विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है।

शोएब अख्तर के यू ट्वयूब चैनल पर उन्होंने बातचीत के दौरान यह कहा है कि उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी जैसा क्रिकेटर कभी नही देखा। उन्होंने माही के संयम की तारीफ की और कहा कि सचिन का स्वभाव उनसे मिलता जुलता था लेकिन धोनी की अलग ही बात थी।

शास्त्री ने कहा"एक बार को आप सचिन तेंदुलकर जैसे शांत खिलाड़ी को भी गुस्सा करते हुए देख लेते हैं लेकिन मैंने धोनी को कभी गुस्सा होते हुए नहीं देखा। शायद उसको गुस्सा होना आता ही नहीं था।"

2014 से 2021 के बीच दो कार्यकाल में शास्त्री भारतीय टीम के साथ काम किया। शास्त्री के नेतृत्व में भारत 2018-19 में ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज़ जीतने वाली पहली एशियाई टीम गई। 2020-21 में उन्होंने इस उपलब्धि को दोहराया। टीम ने पहली विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फ़ाइनल में जगह बनाई और 2021 में वह इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज़ में 2-1 से आगे चल रही थी जब कोरोना ने अंतिम मैच में बाधा डाली। 2017 में अनिल कुंबले से पदभार संभालने के बाद 2019 में शास्त्री के कार्यकाल को 2021 टी20 विश्व कप के अंत तक आगे बढ़ाया गया था। उम्र प्रतिबंधों के कारण 59 वर्षीय शास्त्री एक और कार्यकाल के लिए पात्र नहीं होते।


दक्षिण अफ्रीका से 0-3 की हार पर यह कहा

भारत के पूर्व प्रमुख कोच रवि शास्त्री को साउथ अफ़्रीका में टीम की दोहरी हार के बाद घबराने की कोई वजह नहीं दिख रही है। ओमान में चल रहे लेजेंड्स लीग क्रिकेट के दौरान शास्त्री ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में भारत के मज़बूत प्रदर्शन को देखते हुए, "मानक अचानक कैसे नीचे जा सकता है?"

भारत के प्रमुख कोच के रूप में उनके कार्यकाल के बाद शास्त्री ने पूर्व खिलाड़ियों के समावेश वाली लेजेंड्स लीग क्रिकेट के आयुक्त के रूप में पदभार संभाला। शास्त्री ने कहा कि उन्होंने साउथ अफ़्रीका में हुई सीरीज़ पर अधिक ध्यान नहीं दिया था लेकिन उन्हें विश्वास था कि टीम वापसी ज़रूर करेगी। उन्होंने कहा, "अगर टीम एक सीरीज़ हार जाती है, तो आप लोग आलोचना करना शुरू कर देते हैं ... आप हर मैच नहीं जीत सकते, हार-जीत तो होगी ही। मानक अचानक कैसे गिर सकता है? पांच साल तक, आप दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीम थे।"
webdunia

कोहली की कप्तानी पर भी बोले शास्त्री

राहुल द्रविड़ ने T20 World cup 2021 से शास्त्री का पदभार संभाला है, लेकिन कप्तानी के मोर्चे पर भी मंथन हुआ है क्योंकि विराट कोहली ने कुछ ही महीनों के भीतर टी20 अंतर्राष्ट्रीय और टेस्ट की कप्तानी छोड़ी जबकि उन्हें वनडे कप्तानी से निकाला गया। अपने पूरे कार्यकाल में कोहली के साथ काम करने वाले शास्त्री ने कहा कि टेस्ट कप्तान पद छोड़ने के उनके फ़ैसले पर सवाल नहीं उठाया जाना चाहिए।

शास्त्री ने कहा, "वह उनका निर्णय है। आपको इस निर्णय का सम्मान करना चाहिए। हर चीज़ का एक सही समय होता है। पहले भी अपनी बल्लेबाज़ी या क्रिकेट पर ध्यान केंद्रित करने के उद्देश्य से कई बड़े खिलाड़ियों ने कप्तानी छोड़ी हैं। फिर चाहे वह (सचिन) तेंदुलकर हो, (सुनील ) गावस्कर या (महेंद्र सिंह) धोनी। अब इस सूची में विराट कोहली भी है।"

शास्त्री ने कहा कि कोहली के बेहद सफल कार्यकाल को इस आधार पर नहीं आंका जाना चाहिए कि उन्होंने भारत को किसी भी प्रारूप में वैश्विक ख़िताब नहीं दिलाया। "कई बड़े खिलाड़ियों ने विश्व कप नहीं जीता है। (सौरव) गांगुली, (राहुल) द्रविड़, (अनिल) कुंबले भी विश्व कप नहीं जीते हैं। तो क्या हम उन्हें ख़राब खिलाड़ी करार दे सकते हैं?"

उन्होंने आगे कहा, "आप सामान्यीकरण नहीं कर सकते। आप मैदान पर जाकर खेलते हैं। यह देखिए ना कि हमारे पास कितने विश्व कप विजेता कप्तान हैं। सचिन तेंदुलकर को इसे जीतने के लिए छह विश्व कप खेलने पड़े। अंत में, आपको इस बात से आंका जाता है कि आप कैसे खेलते हैं। क्या आप ईमानदारी के साथ खेल खेलते हैं, और क्या आप लंबे समय तक खेलते हैं? इस तरह आप खिलाड़ियों को परखते हैं।"

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

दक्षिण अफ्रीका के पहले अश्वेत कप्तान ने 6वीं कक्षा के होमवर्क में ही लिख दिया था अपना भविष्य