Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

सऊदी अरब ने कहा फिर शुरू होगा उमरा

webdunia

DW

बुधवार, 23 सितम्बर 2020 (16:31 IST)
सऊदी अरब ने उमरा पर लगा प्रतिबंध हटाने का फैसला किया है। अगले महीने से देश के नागरिकों के लिए उमरा चरणबद्ध तरीके से शुरू हो जाएगा। अधिकारियों का कहना है कि उमरा के लिए कुछ देश के नागरिकों को भी बाद में इजाजत दी जाएगी।
 
सऊदी अरब ने उमरा पर प्रतिबंधों को सीमित करने की घोषणा करते हुए कहा है कि इसे अगले महीने के पहले सप्ताह से शुरू करने का फैसला किया गया है। कोरोनावायरस के कारण पिछले 7 महीनों से उमरा पर प्रतिबंध लगा हुआ है। अधिकारियों का कहना है कि शुरुआती चरणों में उमरा के लिए सिर्फ सऊदी अरब में रहने वाले लोगों को इजाजत दी जाएगी। उमरा पहले की तरह तभी शुरू हो पाएगा, जब कोरोनावायरस पूरी तरह से खत्म हो जाएगा।
 
सऊदी अधिकारियों के मुताबिक देश में रहने वाले लोगों को 4 अक्टूबर से उमरा करने की इजाजत दी जाएगी जबकि चुनिंदा देशों के नागरिकों को 1 नवंबर से ऐसा करने की इजाजत होगी। लेकिन यह पहले की तरह नहीं होगा, जब तक कोविड-19 का खात्मा नहीं हो जाता है।
 
अधिकारियों का कहना है कि पहले चरण में सिर्फ सऊदी अरब में रहने वाले 6,000 लोगों को रोजाना उमरा करने की इजाजत होगी। दूसरा चरण 18 अक्टूबर से शुरू होगा जिसमें उमरा करने वालों की संख्या 15,000 करने की योजना है। 1 नवंबर से यह संख्या हर रोज 20,000 तक बढ़ जाएगी और कुछ विदेशी लोगों को भी उमरा करने की इजाजत होगी।
 
उमरा के लिए जो ख्वाहिश रखते हैं, उन्हें तारीख और समय के साथ ऑनलाइन आवेदन करना होगा। उमरा करने वालों के लिए खास ऐप भी तैयार किया गया है जिसमें उन्हें विशेष परिवहन चुनने का विकल्प होगा।
 
क्या है उमरा?
 
दुनियाभर के मुसलमान सालभर उमरा के लिए मक्का की यात्रा करते हैं। हर साल लाखों मुसलमान उमरा के लिए सऊदी अरब के मक्का पहुंचते हैं। उमरा साल में एक बार होने वाला हज से बिलकुल अलग होता है। उमरा एक सुन्नत काम है जिसे साल के किसी भी महीने में किया जा सकता है। लेकिन इस साल हज के साथ-साथ उमरा पर भी अधिकारियों ने प्रतिबंध लगा दिया था। इस साल हज में कुछ ही हजार मुसलमान शामिल हो पाए थे। हालांकि इससे पहले के सालों में 20 लाख से ज्यादा मुसलमान हज के लिए सऊदी पहुंचते रहे हैं।
 
सऊदी अरब सरकार के आंकड़ों के मुताबिक सरकार हज और उमरा से हर साल 12 अरब डॉलर कमाती है। सऊदी अरब के आंतरिक मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि उसने उमरा को घरेलू तीर्थयात्रियों और अन्य मुसलमानों की इच्छाओं का सम्मान करते हुए इसको अनुमति देने का फैसला किया है ताकि वे उमरा और अन्य पाक जगहों का दौरा कर सकें।
 
एए/सीके (एपी, रॉयटर्स)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

कोरोनावायरस: कहीं आपका सैनिटाइज़र नक़ली या मिलावटी तो नहीं?