चेहरे थे तो दाढ़ियाँ थीं

विजयशंकर चतुर्वेदी

WDWD
चेहरे थे तो दाढ़ियाँ थीं

बूढ़े मुस्कुराते थे मूछों में

हर युग की तरह

इनमें से कुछ जाना चाहते थे बैकुंठ

कुछ बहुओं से तंग़ थे चिड़चिड़े

कुछ बेटों से खिन्न

पर बच्चे खेलते थे इनकी दाढ़ी से

और डरते नहीं थे

दाढ़ी खुजलाते थे जुम्मन मियाँ

तो भाँपता था मोहल्ला

नहीं है सब खैरियत

पिचके चेहरों पर भी थीं दाढ़ियाँ

छिपातीं एमए पास जीवन का दुःख

दाढ़ीवाले छिपा लेते थे भूख और रुदन

कुछ ऐसे भी थे कि उठा देते थे सीट से

और फेरते थे दाढ़ी पर हाथ

बहुत थे ऐसे

जो दिखना चाहते थे बेहद खूँखार

और रखते थे दाढ़ी।

वेबदुनिया पर पढ़ें