सूरत लोकसभा क्षेत्र

सिल्क और डायमंड सिटी के नाम से मशहूर गुजरात का एक प्रमुख शहर है सूरत। यहां भारत के लगभग सभी राज्यों के लोग निवास करते हैं। इस कारण यह लघु भारत के नाम से भी जाना जाता है। सूरत वस्त्र निर्माण के क्षेत्र में देश में प्रथम स्थान पर है। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. मोरारजी भाई देसाई भी इस सीट से पांच बार सांसद रहे।
 
जनसंख्‍या : लोकसभा चुनाव 2014 के मुताबिक यहां की कुल जनसंख्या 26 लाख 17 हजार 24 है। भारत के 15 सबसे अधिक आबादी वाले शहरों में सूरत आठवें स्‍थान पर है। विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार की संभावनाओं के चलते यहां दूसरे राज्यों के लोग भी बड़ी संख्‍या में बसे हुए हैं। 
  
अर्थव्यवस्था : यह देश का प्रमुख बंदरगाह शहर है। इसे गुजरात की आर्थिक राजधानी भी कहा जाता है। सूरत के सूती, रेशमी, जरीदार कपड़ा (किमख़्वाब) तथा सोने व चांदी की वस्तुएं प्रसिद्ध हैं। यहां हीरे पर पॉलिश के उद्योग ने भी प्रवासी मज़दूरों को अपनी ओर आकर्षित किया है।
 
मतदाताओं की संख्‍या : 2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर मतदाताओं की संख्या 14 लाख 84 हजार 68 थी। इनमें पुरुषों की संख्या 5 लाख 39 हजार 368 और महिलाओं की संख्या 4 लाख 8 हजार 554 थी।
  
भौगोलिक स्थिति : गुजरात का यह मशहूर शहर भारत के पश्चिम में स्थित है और तापी नदी इस शहर के मध्य से होकर गुजरती है।
 
16वीं लोकसभा में स्थिति : भाजपा की दर्शना जरदोश यहां सांसद हैं। उन्होंने लोकसभा चुनाव 2014 में कांग्रेस प्रत्याशी नैषध देसाई को पराजित किया था। साल 1984 के लोकसभा चुनाव तक सूरत कांग्रेस का गढ़ था, लेकिन बाद में भाजपा का गढ़ बना गया, क्‍योंकि 1984 के बाद यह सीट कांग्रेस ने कभी नहीं जीती।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख प्रधानमंत्री की तस्वीर वाले विज्ञापन हटाने की मांग, कांग्रेस चुनाव आयोग की शरण में