मौसम अपडेट : मप्र को नहीं मिलने वाली राहत, फिर बारिश की आशंका

गुरुवार, 31 अक्टूबर 2019 (07:52 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश में लगभग 1 सप्ताह तक मौसम का हाल बेहाल रह सकता है, जहां दिन में तेज धूप रहेगी और शाम को नमी के कारण लोकल बादल बनने से बारिश होगी। राजधानी भोपाल में बुधवार को दिनभर तेज धूप रही लेकिन शाम को करीब 7 बजे एकाएक बादल बने और इसके आधे घंटे बाद ही कुछ देर के लिए बारिश की बौछारें शुरू हो गई। हालांकि भोपाल के उपनगर बैरागढ़ में रात्रि 8 बजे तक वर्षा नहीं हुई है।
ALSO READ: मौसम विभाग ने केरल में 4 जिलों में ‘ऑरेंज’ अलर्ट जारी किया, हो सकती है भारी बारिश
लोकल बादल बनने से हो रही बारिश : मौसम विज्ञान केंद्र भोपाल के वरिष्ठ वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि हालांकि मानसून का सीजन समाप्त हो गया है लेकिन अरब सागर और बंगाल की खाडी में एक के बाद एक सिस्टम बनते रहने से नमी आने की वजह से लोकल बादल बनने से यह बारिश हो रही है।
 
भोपाल में हुई वर्षा : बुधवार को भी ऐसा हुआ और भोपाल में शाम को 7.30 बजे से बौछारें शुरू हो गईं। पचमढ़ी में 2 मिमी वर्षा हुई। साहा के अनुसार पिछले 24 घंटों के दौरान भी कुछ स्थानों पर वर्षा हुई है जिसमें सबसे ज्यादा 116 मिमी पानी बैतूल जिले के भैंसदेही में बरसा है। इसके साथ ही चिचोली में 52.1 मिमी, मेघनगर (झाबुआ) में 40 मिमी, बैतूल में 32 मिमी, मंदसौर में 5.2 मिमी, नीमच में 4 मिमी, सिवनी एवं पचमढ़ी में 2.8 मिमी तथा रतलाम में 1 मिमी वर्षा दर्ज की गई।
 
इंदौर, उज्जैन और जबलपुर संभाग में बारिश की संभावना : अगले 24 घंटों के दौरान भी भोपाल सहित प्रदेश के इंदौर, उज्जैन और जबलपुर संभाग के लगभग 23 जिलों में कहीं कहीं गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। इस बीच साहा ने बताया कि अगले 36 या 48 घंटों में अरब सागर में लक्ष्यदीप के पास कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है, इससे भी मध्यप्रदेश तक नमी आ सकती है और हल्की वर्षा हो सकती है।
 
भोपाल में बुधवार को अधिकतम तापमान 30.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। यह सामान्य से 0.8 डिग्री कम है, जबकि न्यूनतम तापमान 22 डिग्री रहा, जो सामान्य से 5.3 डिग्री ज्यादा है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख ठंडे पड़े शिवसेना के तेवर, संजय राउत बोले- BJP के साथ गठबंधन में रहना जरूरी