कलेक्टर ने ली बच्चों की क्लास, पढ़ाई अंग्रेजी

शाजापुर (मध्यप्रदेश) कलेक्टर डॉ. वीरेन्द्रसिंह रावत ने तीन विद्यालयों का न सिर्फ आकस्मिक निरीक्षण किया बल्कि ग्राम लड़ावद में 9वीं के विद्यार्थियों को पढ़ाया भी। उन्होंने बच्चों को अंग्रेजी ग्रामर सिखाई। 
 
इस दौरान जिलाधीश रावत ने आंगनवाड़ियों का भी निरीक्षण किया साथ ही लापरवाही करने वालों के विरुद्ध कार्यवाही भी की। शिक्षा की गुणवत्ता परखने, विद्यालयों की स्थिति एवं शिक्षकों की उपस्थिति जानने के लिए कलेक्टर रावत ने ग्राम निपानिया डाबी के माध्यमिक एवं हाईस्कूल, ग्राम रिछोदा के प्रायमरी एवं माध्यमिक विद्यालय तथा ग्राम लड़ावद के माध्यमिक तथा हाईस्कूल का आकस्मिक निरीक्षण किया।
 
निपानिया डाबी के विद्यालयों में बच्चों की कम उपस्थिति को देखते हुए कलेक्टर ने शिक्षकों से उपस्थिति बढ़ाने के लिए पालकों को प्रेरित करने के निर्देश दिए। साथ ही निर्माणाधीन हाईस्कूल भवन को शीघ्र पूरा करने के लिए निर्माण एजेंसी पीआईयू को भी दूरभाष पर निर्देश दिए।
 
ग्राम रिछोदा में कलेक्टर ने शिक्षिका संगीता नागर द्वारा बिना अनुमति परीक्षा देने, आकस्मिक अवकाश के आवेदन दिए बगैर अवकाश पर जाने तथा प्रधानाध्यापक द्वारा शाला की व्यवस्थाएं ठीक नहीं रखने पर दोनों को नोटिस देने के निर्देश दिए।  ग्राम लड़ावद में उन्होंने कक्षा 9वीं के विद्यार्थियों को इंग्लिश ग्रामर का अध्ययन भी कराया।
 
निरीक्षण के दौरान ग्राम मोरटा, रिछोदा तथा लड़ावद के आंगनबाड़ी केन्द्र बंद पाए जाने पर कलेक्टर ने जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास को अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के निर्देश दिए।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख अहमदाबाद में बहुमंजिला इमारत में लगी आग, महिला की मौत