यह हैं वे 5 महिलाएं जिनसे महात्मा गांधी की गहरी दोस्ती थी...

बापू, महात्मा गांधी, मोहनदास करमचंद गांधी, राष्ट्रपिता गांधी जी एक  ऐसा नाम जो देश की आत्मा है, देश की धड़कन है, देश की पहचान है... जब उन्हें हमसे बिछड़े 70 साल हो रहे हैं उनके जीवन की कई ऐसी बातें सामने आ रही हैं जिनसे हम पहले अवगत नहीं थे। महात्मा गांधी की कुछ नजदीकी महिला मित्र रही हैं जिन पर बापू अपने से ज्यादा विश्वास करते थे... आइए जानें 5 ऐसी ही खास महिलाएं जो बापू के बेहद करीब रहीं...  
 
 
1. सरला देवी चौधरानी (1872-1945)
एक वक्त था सरला देवी को गांधीजी की आध्यात्मिक पत्नी कहा जाने लगा था। यहां तक कि स्वयं बापू ने माना है कि उनकी वजह से 'बा' से उनके संबंध टूटते-टूटते बचे हैं... सरला रवींद्रनाथ टैगोर की भतीजी थीं। संगीत और लेखन में उनकी गहरी रुचि थी। कहा जाता है कि सरला के स्वतंत्रता सेनानी पति रामभुज दत्त चौधरी जब जेल में थे तब लाहौर में गांधी जी सरला के घर पर ही रुके थे। बाद में एकांतवास में सरला की मृत्यु हुई उससे पूर्व गांधीजी और उनके बीच दूरी कायम हो गई थी। 
 
2. सरोजिनी नायडू (1879-1949)
स्वर कोकिला सरोजनी नायडू को कौन नहीं जानता? वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की पहली महिला अध्यक्ष थीं। सरोजिनी नायडू से गांधी जी के काफी  मित्रवत संबंध रहे। सरोजिनी और गांधी की पहली मुलाकात लंदन में हुई थी। गांधीजी की गिरफ्तारी के बाद नमक तोड़ो आंदोलन की जिम्मेदारी सरोजिनी ने बखूबी निभाई थी। 
 
3. राजकुमारी अमृत कौर (1889-1964)
राजकुमारी अमृत कौर एक शाही परिवार से आती थीं। वे पंजाब के कपूरथला के राजा सर हरनाम सिंह की बेटी थीं। उनकी पढ़ाई इंग्लैंड में हुई थी। राजकुमारी अमृत कौर को गांधी की सबसे क़रीबी सत्याग्रहियों में गिना जाता था। कई प्रमाण उपलब्ध हैं कि 1934 में हुई पहली मुलाकात के बाद गांधी और राजकुमारी अमृत कौर ने एक-दूसरे को सैकड़ों खत भेजे। भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान वह जेल भी गईं। स्वतंत्र भारत की पहली स्वास्थ्य मंत्री राजकुमारी अमृत कौर बनी थीं। बापू ने समय-समय पर उन्हें अपनी चिट्ठियों में 'प्यारी पागल' और 'बागी' जैसे स्नेहिल शब्दों से  संबोधित किया है। 

4. आभा गांधी (1927-1995)
गांधी जी पर रचे साहित्य को पढ़ने पर दो नाम हमें प्रमुखता से मिलते हैं और वे हैं आभा और मनु। आभा बंगाली थीं। बाद में आभा की शादी गांधी के परपोते कनु भाई गांधी से हुई। गांधी की प्रार्थना सभाओं में आभा भजन गाती थीं और कनु फोटोग्राफी करते थे। बाद के वक्त में महात्मा गांधी की कई तस्वीरें कनु द्वारा ही ली गई हैं। नाथूराम गोडसे ने जब गांधीजी को गोली मारी, तब आभा उनके साथ थीं। 
 
5. मनु गांधी (1928-1969)
मनु महात्मा गांधी की सेवा में लंबे समय तक रहीं। मनु महात्मा गांधी की दूर की रिश्तेदार थीं। बापू मनु को अपनी पोती मानते थे। यहां तक कि कस्तूरबा के आखिरी दिनों में सेवा करने वालों में मनु का नाम सबसे प्रमुखता से आता है। मनु ने अपनी डायरी में उन बातों का विस्तार से वर्णन किया है जब गांधी जी अपने अंतिम दिनों में मानसिक कष्टों से गुजर रहे थे। 
 
 
अन्य 
इन 5 के अलावा कुछ और भी नाम है जो बापू के विचारों और व्यक्तित्व से गहरे तक प्रभावित थीं उनमें कुछ विदेशी नाम भी शामिल हैं। जैसे मेडलीन उर्फ मीराबेन, नीला क्रैम, सुशीला नय्यर आदि। 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख सामने आई मुख्यमंत्री के सुरक्षाकर्मियों की निर्दयता, कड़कड़ाती ठंड में उतरवाई तीन साल के मासूम की जैकेट (वीडियो)