यह हैं संक्रांति के सबसे खास सूर्य मंत्र, इनके जप से होगा हर संकट का अंत

संक्रांति के दिन सूर्य पूजन और सूर्य मंत्र का 108 बार जाप करने से अवश्य लाभ मिलता है। अगर भाषा व उच्चारण शुद्ध हो तो आदित्य ह्रदय स्तोत्र का पाठ अवश्य करें। यह अनुभूत प्रयोग है। 
 
मकर संक्रांति के लिए विशेष 5 सूर्य मंत्र 
 
मकर संक्रांति के दिन नीचे दिए गए मंत्रों में से जो भी मंत्र आसानी से याद हो सकें उसके द्वारा सूर्य देव का पूजन-अर्चन करें। फिर अपनी मनोकामना मन ही मन बोलें। भगवान सूर्य नारायण आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण करेंगे। 
 
1.ॐ घृ‍णिं सूर्य्य: आदित्य: 
 
2. ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय सहस्रकिरणराय मनोवांछित फलम् देहि देहि स्वाहा।। 
 
3. ॐ ऐहि सूर्य सहस्त्रांशों तेजो राशे जगत्पते, अनुकंपयेमां भक्त्या, गृहाणार्घय दिवाकर:। 
 
4. ॐ ह्रीं घृणिः सूर्य आदित्यः क्लीं ॐ । 
 
5. ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय नमः । 

ALSO READ: कुम्भ 2019 : मकर संक्रांति को प्रथम शाही स्नान, जानिए शाही पर्व स्नान की तिथियां

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख प्रयाग कुंभ मेले में त्रिवेणी संगम तट पर ही स्नान करना क्यों महत्वपूर्ण?