Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

सावधान! कोरोना महामारी अभी नहीं हारी!

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
webdunia

ऋतुपर्ण दवे

जिस बात का अंदेशा था, वह सामने है। लाख चेतावनियों के बाद भी जरा सी लापरवाही पर दुनिया की इस सदी की महामारी फिर भारी पड़ती दिख रही है।

दुनिया के कई देशों में पहले ही कोरोना की दूसरी और कहीं-कहीं इसके बाद की भी लहरें दिखने लगी हैं। भारत में भी विशेषज्ञ लगातार चेता रहे थे। लेकिन हम हैं कि मान नहीं रहे थे। अब महाराष्ट्र और दक्षिण  के रास्ते तेजी से फैल रहे नए रूप के कोरोना वायरस ने चिन्ताएं बढ़ा दी है।

कम से कम महाराष्ट्र में तो हालात इस कदर बेकाबू से दिख रहे हैं कि कई शहरों को फिर से लॉकडाउन के साए में करने की मजबूरी जो हो गई है। यही स्थिति कमोवेश दक्षिण के कई राज्यों में है जहां एन440 के रूप का कोरोना बहुत ही तेजी से फैल रहा है। सबसे बड़ी चिन्ता की बात यह है कि कोरोना के नए रूप को ज्यादा खतरनाक और तेजी से फैलने वाला बताया जा रहा है। दुनिया भर में कई जगह यह दिख भी रहा है। मतलब साफ है कि अभी महामारी नहीं हारी है और हम हैं कि मान बैठे थे कोरोना का रोना खत्म हुआ!

सवाल फिर वही कि हम क्यों नहीं तैयार थे महामारी के नए रूप और आक्रमण को समझने और संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए? इसके जवाब के लिए सरकारों को दोष देने से पहले शायद हमें सबसे पहले खुद से ही पूछना पड़ेगा कि आखिर हम खुद चाहते क्या हैं? कोरोना हां या ना! माना कि सरकार, शासन-प्रशासन ने थोड़ी सी छूट दी और कब तक नहीं देती। लेकिन इसका बेजा फायदा भी तो हमने ही उठाया।

हालांकि कोरोना के नए रूप या रूपों जो भी कह लें को लेकर भारतीय वैज्ञानिक भी काफी सजग हैं और लगातार शोध जारी है। हां इनका फैलाव अभी सबसे ज्यादा केरल और महाराष्ट्र में ही है जहां देश के 74 प्रतिशत से अधिक ऐक्टिव मामले हैं। लेकिन जिस तरह से छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, पंजाब और जम्मू-कश्मीर में भी हर दिन नए कोरोना मरीज सामने आ रहे हैं वह बड़ी खतरे की घण्टी है। कोरोना की नई रफ्तार ग्रामीण इलाकों को भी गिरफ्त में ले रही है जो बड़ी चिन्ता का कारण है।

कई महानगरों में पूरे के पूरे अपार्टमेण्ट्स ही बुरी तरह से चपेट में आ रहे हैं तो कहीं पूरा स्कूल संक्रमित मिल रहा है। यानी कुल मिलाकर संकेत अच्छे नहीं हैं। इसी हफ्ते की शुरुआत में अमेरिका में मौतों का आंकड़ा 5 लाख के पार जा पहुंचा। वहाँ के राष्ट्रपति की संवेदनाएं और दुख इसी बात से समझ से आता है जिसमें उन्होंने कहा कि एक देश के रूप में ऐसे क्रूर भाग्य को स्वीकार नहीं कर सकते। लेकिन दुख की भावना को भी सुन्न नहीं होने देना है।

मोमबत्तियां जलाकर कोरोना से काल के गाल में समाए लोगों को राष्ट्रपति-उपराष्ट्रपति ने श्रध्दांजलि दी।
इस हफ्ते की शुरुआत में दुनिया भर में कोरोना से संक्रमित लोगों की कुल संख्या 11 करोड़ 22 लाख 63 हजार के पार जा पहुंची। इस वायरस से अब तक 24 लाख 85 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं ठीक होने वालों की संख्या भी 8 करोड़ 79 लाख के पार पहुंच चुकी है। अमेरिका, भारत और ब्राजील में कोरोना वायरस के संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले सामने आए। अमेरिका में संक्रमण के कुल मामले करीब 2.87 करोड़ तक पहुंच चुके हैं। जबकि अब तक वहां 511,133 लोगों की जान जा चुकी है। दुनिया में इस वक्त कोरोना के एक्टिव केस की संख्या 2 करोड़ 21 लाख 58 हजार के करीब है।

विश्व के नक्शे पर अगर देशों के हिसाब से देखें तो इस हफ्ते की शुरुआत तक सबसे ज्यादा कुल मामले अमेरिका में दर्ज हुए जो 28,765,423 रहे जबकि मौतों का आंकड़ा 5,11,133 पहुंच गया। इसके बाद भारत का नंबर आता है जहां कुल दर्ज मामले 11,005,850 रहे जबकि 1,56,418 लोगों की मौत हुई। इसके बाद तीसरे नंबर पर ब्राजील है जहां कुल दर्ज मामले 10,168,174 रहे जबकि मौतों का आंकड़ा 2,46,560 रहा। ब्रिटेन जहां ब्रिटेन दर्ज मामले 41,05,675 जबकि मौतों का आंकड़ा 1,20,365 है. जबकि रूस में दर्ज मामले 4,164,726 हैं जबकि मरने वालों की संख्या 83,293 रही।

इसी तरह फ्रांस में दर्ज मामले 35,83,135 और मृतकों की संख्या 84,147 रही. छठे क्रम पर स्पेन जहां दर्ज मामले 31,33,122 तथा मृतकों की संख्या 67,101 रही। वहीं इटली में दर्ज मामले 27,95,796 और मौतों की संख्या 95,486 रही. तुर्की में तुर्की दर्ज संख्या 26,31,876 रही जबकि मृत्यु का आंकड़ा 27,983 है। जबकि तुर्की में दर्ज मरीजों की संख्या 26,31,876 तथा मृतकों की संख्या 27,983 है। मैक्सिको में दर्ज मरीजों की संख्या 20,38,276 है जबकि मृतकों की संख्या 1,79,797 रही। जबकि ईरान में दर्ज मामले 15,66,081 थे जबकि मृत्य 59,409 लोगों की हुई। पेरू में जहां कुल दर्ज मामले 12,75,899 है वहीं मृतकों के आंकड़े 44,877 हैं।

इसी तरह चिली में कुल दर्ज मामले 7,95,845 हैं जबकि मृतक संख्या 19,974 रही जबकि सऊदी अरब में दर्ज कोरोना मरीज 3,74,691 रहे वहीं मृतकों की संख्या 6,457 रही।

एक बात तो समझ आती है कि वैक्सीन के आने के बाद महाराष्ट्र और अन्य राज्यों में कोरोना के नए रूप में फिर से बढ़ने को बड़ी चेतावनी ही समझनी चाहिए। वैक्सीन की सफलता में संदेह नहीं है। देश के बड़े-बड़े चिकित्सकों ने इसे सबसे पहले लगवाकर भ्रम को दूर करने की कोशिश की है। बावजूद इस सबके वैक्सीनेशन की रफ्तार में तेजी नहीं दिखना कहीं न कहीं निराश करती है। यह भी बड़ी विडंबना है कि पूरे देश से बीते कई हफ्तों से जो तस्वीरें सामने आ रही थीं वह सबकी मिली जुली लापरवाही का नतीजा है।

इतिहास गवाह है कि पहले भी जितनी महामारियां आईं हैं उन पर काबू पाने में काफी वक्त लगा है। लेकिन कोरोना को लेकर बहुत बड़ी सुकून की बात रही कि दुनिया भर में तमाम कारगर टीके बहुत जल्द ईजाद हुए और इस मामले में भारत बहुत खुशनसीब है।

भारत में टीकों को लेकर जागरूकता बढ़ाने की जरूरत है। टीके के सकारात्मक नतीजों के आंकड़ों पर नजर डालना होगा। शायद इस बारे में केन्द्र और राज्य सरकारों को जनजागरूकता बढ़ानी होगी। पूरे देश में हर चिकित्सालयों व सामाजिक संस्थाओं को आगे आकर जहां टीके पर बेवजह के भ्रम को ईमानदार प्रयासों व जनसंवाद के जरिए दूर करने की कोशिश करनी होगी वहीं अब सभी आम और खास को भी यह समझना ही होगा कि साल 2021 में भी किसी भी सार्वजनिक स्थान या कहें कि घर की चौखट के बाहर मास्क के बिना दुखदायी होगा। हां राज्य सरकारों को भी चाहिए कि कोरोना के जरा से खतरे की दस्तक होते ही स्कूलों पर प्रतिबंध जरूरी करें। इस बारे में दक्षिण सहित छत्तीसगढ़ के कई ताजा उदाहरण सामने हैं।

क्यों नहीं इस साल इस नए नारे के साथ महामारी को चुनौती दी जाए “2021 में कोरोना को दें बस एक मास्क के साथ।” कोरोना के खतरों और अपने गांव, शहर, परिचितों की कोरोना से अकाल मृत्यु से भला कौन नहीं आहत होगा? किसको कोरोना के दंश का पता नहीं है। यह भी तो सब जानते हैं कि लंबे समय से कोरोना हमारी फितरत का आदी हो गया है। सीधे शब्दों में हमारे शरीर से आसानी से घुल मिल गया है और पहुंचते ही दगा देता है। जाहिर है दवा के साथ सबसे जरूरी है कि इसको पहले ही रोक दिया जाए। यह सिर्फ संभव है घर के बाहर हर पल मास्क के साथ निकलें, दो गज की दूरी बनाएं रखें और बार-बार हाथ साबुन से धोते रहें।

जब पता है कि दवा जितना असरदार 10-20 रुपए का कपड़े का मास्क इस भीषण महामारी को चुनौती दे सकता है और न केवल कोरोना बल्कि प्रदूषण और एलर्जी-अस्थमा से भी बचा रहा है तो फिर इससे परहेज कैसा? हां, इस बारे में देश भर में इतना जरूर हो कि जो पिछले साल की सीख को लेकर एक बार फिर बजाए संपूर्ण लॉकडाउन के एहतियात के तौर पर नाइट कर्फ्यू जरूर लगा दिया जाए और दिन में बिना मास्क वालों पर सख्ती की जाए।

(इस आलेख में व्‍यक्‍त विचार लेखक की निजी राय है, वेबदुनिया से इसका संबंध नहीं है)

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
Surya Namaskar : रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ानी है तो सीख लीजिए सूर्य नमस्कार