कौन हैं सबसे खूबसूरत सांसद...

WD

हाल ही में राज्यसभा सांसद के तौर पर शपथ ले चुकीं बॉलीवुड की एवरग्रीन ब्यूटी रेखा 57 साल की उम्र में भी उतनी ही खूबसूरत हैं जितनी अपनी युवावस्था में थीं। रेखा को राज्यसभा में शपथ लेते हुए देख इंटरनेट पर बहस छिड़ी है कि रेखा ही संसद की सबसे खूबसूरत सांसद हैं? गौरतलब है कि रेखा के अलावा बॉलीवुड की और भी कई खूबसूरत अदाकारा संसद में अपनी उपस्थिति दर्ज करवा चुकी हैं। बॉलीवुड से आईं कुछ खूबसूरत सांसदों पर एक नजर।
WD

* हेमा मालिनी : प्रसिद्ध अभिनेत्री और नृत्यांगना हेमा मालिनी बॉलीवुड की उन अभिनेत्रियों में शामिल हैं, जिनमें सौंदर्य और अभिनय का अनूठा संगम देखने को मिलता है। शोले, सीता और गीता, और क्रांति जैसी फिल्मों के सहारे अभिनय के क्षेत्र में सफल पारी खेलने के बाद में राजनीति में आई ड्रीमगर्ल हेमा को भाजपा ने 2003 में राज्यसभा में भेजा। संसद के गलियारों में उन्हें अकसर देखा गया। वे 2009 में राज्यसभा से रिटायर हुईं। उच्च सदन के कई सदस्यों हेमा की सदन की विदाई के अवसर पर उनकी सराहना करते हुए कहा कि उनकी नजरों में वह आज भी ‘ड्रीमगर्ल और नंबर वन हैं।

WD

* जया बच्चन : कोरा कागज, अभिमान, मिली, अंगूर जैसी फिल्मों से प्रशंसकों के दिलों पर राज करने वाली जया बच्चन एक सशक्त अभिनेत्री के रूप में जानी जाती हैं। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन की पत्नी और अपने समय की खूबसूरत अभिनेत्रियों में शुमार जया को राजनीति में लाने का श्रेय उनके पारिवारिक मि‍त्र अमरसिंह को जाता है। अमरसिंह से सपा प्रमुख मुलायम सिंह से संबंध खराब होने के बाद इसी सदस्यता को लेकर उनका अमरसिंह से विवाद हुआ और दोनों के संबंधों में दरार आ गई। जया अब भी सपा से ही राज्यसभा सांसद हैं। रेखा और जया में कभी नहीं बनी और बरसों से दोनों की बातचीत भी बंद है। रेखा के राज्यसभा सांसद बनते ही जया कैमरों के फोकस में आ गईं।

FILE

* जयाप्रदा : भारतीय सिनेमा की उन गिनी चुनी अभिनेत्रियों में से हैं जिनमें सौंदर्य और अभिनय का अनूठा संगम देखने को मिलता है। उन्होंने सिंदूर, घर घर की कहानी, फरिश्ते समेत 200 हिन्दी फिल्मों में काम किया है। अपनी सुंदरता से सत्यजीत रे का मन मोहने वाली जयाप्रदा को राजनीति में लाने का श्रेय चंद्रबाबू नायडु को जाता है। उन्हें राज्यसभा सदस्य मनोनीत किया था, लेकिन बाद में नायडु से मतभेद की वजह से वह समाजवादी पार्टी में चली गईं। पार्टी ने उन्हें 2004 के आम चुनाव में रामपुर लोकसभा सीट से टिकट दिया। स्टारडम के सहारे उन्होंने इस सीट पर जीत हासिल कर ली। अब भी वे रामपुर से ही लोकसभा सांसद हैं।

* वैजयंती माला : दक्षिण से आकर हिन्दी सिनेमा में अपनी चमक बिखरने वाली पहली नायिका थीं। ज्वैलथीफ, लीडर, संगम, गंगा जमुना जैसी सदाबहार फिल्मों से अपने करियर चमकाने वाली वैजयंती माला को राजीव गांधी राजनीति में लाए थे। वे संसद के दोनों सदनों की सदस्य रही हैं। वे 1984 और 1989 में कांग्रेस के टिकट पर दो बार चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचीं और बाद उन्हें 1993 में राज्यसभा में सांसद मनोनीत किया गया। 1999 में अपना कार्यकाल पूरा करते ही खूबसूरत अदाकारा ने राजनीति से भी संन्यास ले लिया। इस तरह वे 15 साल तक संसद में ग्लैमर का जादू बिखेरती रह‍ीं। उन्हें राजनीति और समाजसेवा की ज्यादा समझ नहीं थी और वे पति की इच्छा को ध्यान में रखते हुए राजनीति में आई थीं।

* नर्गिस : मदर इंडिया, श्री 420, आवारा, चोरी-चोरी जैसी फिल्मों में काम कर चुकीं महान अदाकारा नर्गिस फिल्मों के साथ ही समाजसेवा में भी सक्रिय रही। नर्गिस द स्पैस्टिक सोसायटी ऑफ इंडिया की पहली संरक्षक थीं और मानसिक रूप से कमजोर बच्चों की मदद के लिए उन्होंने बहुत काम किया।

भारत सरकार ने न सिर्फ उन्हें पद्मश्री अवॉर्ड प्रदान किया बल्कि 1980 में उन्हें राज्यसभा के लिए भी नामित किया गया, लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। वे अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सकीं। कैंसर की वजह से 2 मई 1981 को उनका निधन हो गया। उनकी याद में 1982 में नर्गिस दत्त मेमोरियल कैंसर फाउंडेशन की स्थापना की गई। इस प्रकार निधन के बाद भी नर्गिस लोगों के दिल में बसी हुई हैं।

* शबाना आजमी : अंकुर, अर्थ, मासूम जैसी सशक्त फिल्मों से अपनी अभिनय कला से फिल्मप्रेमियों के दिलों में विशेष जगह बनाने वाली शबाना आजमी एक योग्य अभिनेत्री के साथ ही एक कुशल समाजसेवी भी है। वे 1997 में राज्यसभा की सदस्य मनोनीत की गईं। सांसद के रूप में अपनी जिम्मेदारी गंभीरता के साथ निभाने के साथ-साथ उन्होंने स्वयं को किसी राजनीतिक दल से नहीं जोड़ा। सांसद के रूप में अपने मनोनयन को सही साबित करने वाली शबाना 2003 में राज्यसभा से रिटायर हो गईं। वे अब भी समाजसेवा से जुड़ी हैं और समय समय पर इसके लिए कार्यक्रम करती हैं।
webdunia-ad

वेबदुनिया पर पढ़ें