Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia

किसानों के खाते में ट्रांसफर हुए 16 हजार करोड़, पर ड्रॉप मोर क्रॉप का मंत्र

हमें फॉलो करें Narendra Modi
, सोमवार, 17 अक्टूबर 2022 (13:03 IST)
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को यहां स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के पूसा मेला ग्राउंड में दो दिवसीय 'पीएम किसान सम्मान सम्मेलन 2022' का उद्घाटन किया और प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना के अंतर्गत 16 हजार करोड़ रुपए की 12वीं किस्त जारी की।
 
मोदी ने अपनी सरकार की आठवीं वर्षगांठ के अवसर पर मई महीने में हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में किसान सम्मान निधि की 11वीं किस्त के रूप में 21,000 करोड़ रुपए जारी किए थे।
 
इस अवसर पर मोदी ने एग्री स्टार्टअप कॉन्क्लेव और प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया। इसके अलावा उन्होंने केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय के तहत 600 पीएम-किसान समृद्धि केंद्रों (पीएम-केएसके) का भी उद्घाटन किया और ‘भारत’ यूरिया बैग ब्रांड नाम से किसानों के लिए ‘एक राष्ट्र-एक उर्वरक’ नामक महत्वपूर्ण योजना भी लॉन्च की।
 
पीएम मोदी ने किसानों से आग्रह किया‍ कि खेती में खुले मन से नई पद्धति को अपनाना होगा। जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान के नारे का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि एक समय वह था जब यूरिया के लिए मारामारी होती थी, लेकिन अब नीम का कोटिंग लगाने से यूरिया की कालाबाजारी खत्म हो गई है।
 
किसानों के खाते में 16000 करोड़ ट्रांसफर : सोमवार को ही किसान सम्मान निधि के रूप में पंजीकृत किसानों के खाते में 2-2 हजार रुपए ट्रांसफर किए गए। कुल 16000 करोड़ रुपए किसानों के खाते में ट्रांसफर किए गए हैं। योजना की शुरुआत से लेकर अब तक किसानों के खाते में 2 करोड़ रुपए ट्रांसफर किए जा चुके हैं।

किसानों को मंत्र : पीएम मोदी ने कहा कि 'पर ड्रॉप मोर क्रॉप' के मंत्र पर, माइक्रो इरीगेशन पर बहुत अधिक बल दिया जा रहा है। पिछले 7-8 वर्षों में देश की लगभग 70 लाख हेक्टेयर जमीन को माइक्रोइरीगेशन के दायरे में लाया जा चुका है।
     
उन्होंने कहा कि हमारे यहां जो पारंपरिक मोटे अनाज- Millets होते हैं, उनके बीजों की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए भी आज देश में अनेक हब बनाए जा रहे हैं। भारत के मोटे अनाज पूरी दुनिया में प्रोत्साहन पाएं, इसके लिए सरकार के प्रयासों से अगले वर्ष को मोटे अनाज का अंतरराष्ट्रीय वर्ष भी घोषित किया गया है।

इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने करोड़ों किसानों, कृषि स्टार्टअप, शोधकर्ताओं, नीति-निर्माताओं, बैंकर, अन्य हितधारकों को संबोधित किया। कृषि मंत्रालय के मुताबिक इस आयोजन में एक करोड़ से अधिक किसान डिजिटल माध्यम से भाग ले रहे हैं।
 
ज्ञात हो कि देश में मझोले और छोटे किसानों की मदद के लिए शुरू की गई इस योजना को 8 साल हो चुके हैं और देश में करोड़ों किसान इसका लाभ प्राप्त कर चुके हैं। केंद्र सरकार ने 24 फरवरी 2019 को पीएम किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत की थी।

इस योजना के तहत, पात्र लाभार्थी किसान परिवारों को 6,000 रुपए प्रति वर्ष का वित्तीय लाभ प्रदान किया जाता है। यह प्रत्येक चार माह में 2,000 रुपए की तीन समान किस्तों में देय होता है। फंड सीधे लाभार्थियों के बैंक खातों में हस्तांतरित किया जाता है।
Edited by: Vrijendra Singh Jhala


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

CPC की मीटिंग में चीन ने क्‍यों दिखाया गलवान झड़प का वीडियो?