खराब मौसम ने रोकी अमरनाथ यात्रा, लेह राजमार्ग अभी भी बंद

जम्‍मू। राजमार्ग पर शुक्रवार को खराब मौसम होने के कारण अमरनाथ यात्रा आज के लिए स्थगित कर दी गई। जबकि श्रीनगर लेह राजमार्ग आज दूसरे दिन भी यातायात के लिए बंद रहा। इस बीच केरिपुब ने कहा कि वह जम्‍मू से रवाना होने वाले अमरनाथ यात्रियों के वाहनों को तब तक आगे नहीं बढ़ने देगी जब तक कि उनकी टैगिंग नहीं होगी।

अधिकारियों ने कहा कि लगभग 300 किलोमीटर लंबे जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर खराब मौसम के कारण आज घाटी की तरफ किसी भी यात्री वाहन को जाने की अनुमति नहीं दी गई। नतीजतन जम्‍मू से अमरनाथ यात्रा को स्‍थगित कर दिया गया।

दूसरी ओर श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर दूसरे दिन भी कई जगह भूस्खलन होने से वाहनों की आवाजाही बंद रही। ट्रैफिक विभाग ने बताया कि श्रीनगर के पहाड़ी इलाकों में अभी भी बारिश हो रही है। 434 किलोमीटर लंबा श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग जो कश्मीर घाटी को लद्दाख से जोड़ता है, पर शुक्रवार तड़के एक बार फिर भूस्खलन हो गया, जिसकी वजह से दूसरे दिन भी वाहनों को मार्ग पर उतरने की इजाजत नहीं दी। वहीं मुगल रोड पर हुए भूस्खलन को हटा दिया गया है और वहां वाहनों की आवाजाही शुरू हो गई है। मुगल रोड पुंछ और राजौरी जिलों को दक्षिण कश्मीर के शोपियां से जोड़ता है।

इस बीच केंद्रीय रिजर्व पुलिसबल के कमांडेंट ने कहा कि बाबा अमरनाथ के दर्शनों के लिए आधार शिविर यात्री निवासी जम्मू से जाने वाले श्रद्धालुओं के वाहनों पर रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआइडी) फिट की जाएंगी। यह व्यवस्था श्रद्धालुओं की सुरक्षा को यकीनी बनाने के लिए की गई है और इसका पालन करना अनिवार्य है।

कमांडेंट आशीष कुमार झा ने यात्री निवास में कहा कि आरएफआइडी प्रौद्योगिकी का अहम हिस्सा है और इसका प्रयोग करना गलत नहीं है। झा ने कहा कि अमरनाथ यात्रा के काफिले के साथ जाने वाले किसी भी वाहन को आरएफआइडी टैगिंग किए बिना नहीं जाने दिया जाएगा। आधार शिविर यात्री निवास में प्रवेश करने पर वाहनों में यह टैगिंग कर दी जाएगी।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख उप्र में भीषण सड़क हादसा, एक ही परिवार के 7 लोगों की मौत, एक बच्‍चा गंभीर घायल