पुलवामा का बदला, बडगाम हेलीकॉप्टर हादसे में 5 वायुसेना अधिकारी दोषी

नई दिल्ली। बालाकोट हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों की गत 27 फरवरी को हवा में झड़प के दौरान वायुसेना द्वारा भूलवश अपने ही एक हेलिकॉप्टर को मिसाइल से मार गिराए जाने के मामले में 5 अधिकारियों को दोषी पाया गया है।
 
सूत्रों के अनुसार एमआई-17 हेलीकॉप्टर दुर्घटना की जांच के लिए गठित कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी ने अपनी रिपोर्ट में वायुसेना के 5 अधिकारियों को दोषी पाया है। यह रिपोर्ट आगे की कार्यवाही के लिए वायुसेना मुख्यालय भेजी गई है। उन्होंने कहा कि कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी ने 5 अधिकारियों को दोषी पाया है। 
 
गत 27 फरवरी की सुबह 154 हेलीकॉप्टर यूनिट के इस हेलीकॉप्टर ने श्रीनगर हवाई अड्डे से उड़ान भरी थी, लेकिन यह 10 मिनट बाद ही बडगाम में गिर गया। इस हादसे में हेलीकॉप्टर में सवार सभी 6 वायु सैनिकों की मौत हो गई, जबकि एक असैनिक भी हेलीकॉप्टर की चपेट में आने से मारा गया। उसी समय नौशेरा सेक्टर के हवाई क्षेत्र में भारत और पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों के बीच झड़प हो रही थी। 
 
पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी तड़के पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के निकट बालाकोट में आतंकवादी ठिकानों पर बमबारी कर उन्हें ध्वस्त कर दिया था। पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों ने इसके जवाब में अगले दिन यानी 27 फरवरी की सुबह भारतीय ठिकानों पर हमला करने की कोशिश की, जिसे वायुसेना ने विफल कर दिया। 
 
पाकिस्तानी विमानों की कार्रवाई के चलते उस समय पूरे क्षेत्र में हाई अलर्ट था। इसी दौरान एमआई-17 हेलीकॉप्टर ने श्रीनगर बेस से उड़ान भरी। वायुसेना की जमीनी रक्षा प्रणाली उस समय चौकस थी और उसने राडार पर हवा में कुछ गतिविधि देखी, लेकिन वहां तैनात अधिकारियों को यह नहीं पता चला कि यह वायुसेना का ही हेलीकॉप्टर है। इसे दुश्मन का समझकर मिसाइल हमले में गिरा दिया गया था। 
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख 19 दिनों से बंद हैं इंटरनेट व मोबाइल, चुनिंदा जगह ही सेवा जारी