राम मंदिर निर्माण के संकल्प के साथ अयोध्या में शुरू हुई विहिप की धर्मसभा

रविवार, 25 नवंबर 2018 (13:40 IST)
लखनऊ। केंद्र सरकार पर राम मंदिर निर्माण का दबाव बनाने के लिए विश्व हिन्दू परिषद रविवार को धर्मसभा का आयोजन करने जा रही है। भक्तमाल की बगिया में हो रही इस धर्मसभा में संत और धर्माचार्य राम मंदिर निर्माण की तारीख तय करने के लिए सरकार पर दबाव बनाने की कोशिश करेंगे। पेश हैं अयोध्या में धर्मसभा से जुड़े मुख्य बिंदु-

* उत्तर प्रदेश की योगी आदित्य नाथ सरकार का भी सभा को पूरा समर्थन प्राप्त है। 
* धर्मसभा में साधु-संत एवं रामभक्त किसी भी कीमत पर शीघ्र राममंदिर निर्माण कराने का संकल्प लेंगे।
* अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) द्वारा आयोजित धर्मसभा रविवार को जय श्रीराम के नारे के साथ शुरू हो गई है 
* सभा विहिप नेताओं एवं साधु-संतों के भाषण से शुरू होकर अंत में प्रस्ताव पास कर केन्द्र सरकार पर राम मंदिर निर्माण के लिए अध्याधेश लाने के लिए दबाव बनाया जाएगा। 
* जिला प्रशासन एवं पुलिस ने धर्मसभा स्थल पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए है। पीएसी की 60 कंपनियां एवं केन्द्रीय सुरक्षा बलों को कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए लगाया गया है। शहर में धारा 144 के तहत पहले से निषेधाज्ञा लागू की हुई है।
राम लला के दर्शन के बाद उद्धव ठाकरे ने मोदी सरकार पर साधा निशाना- 
- कहा- उनके अयोध्या आने में कोई छिपा हुआ एजेंडा नहीं है।
- जल्द से जल्द राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए।
- हिन्दू इंतजार कर रहे हैं कि राम मंदिर कब बने।
- मोदी सरकार राम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाए, शिवसेना उसके साथ है।
- हिन्दू अब ताकतवर हो गया है, वह अब मार नहीं खाएगा। 
- चुनाव के समय सब राम मंदिर की माला जपते हैं, लेकिन चुनाव के बाद सब भूल जाते हैं।
- मोदी सरकार हिन्दुओं की भावना से खिलवाड़ नहीं करे। 
- मोदी सरकार पर निशाना साधते कहा कि बार-बार कहते हैं कि मंदिर वहीं बनाएंगे लेकिन कब। 
- वे जब रामलला के दर्शन करने जा रहे थे तो ऐसा लग रहा था, जैसे जेल जा रहे हों। 
- शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने परिवार के साथ रामलला के दर्शन किए।
- 17 जनवरी 2019 तक अयोध्या में धारा 144 लागू है।
- शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे रामलला के दर्शन करने के बाद पत्रकारों को संबोधित करेंगे।
- धर्मसभा के लिए 100 संतों को बुलाया गया है। 
- विहिप का कहना है कि यह आखिरी धर्मसभा होगी। इसके बाद राम मंदिर का निर्माण होगा।
- माना जा रहा है कि यह धर्मसभा करीब चार घंटे चलेगी।
- धर्मसभा के माध्यम से इस सभा में आरएसएस और विश्व हिन्दू परिषद समेत अन्य संगठनों से जुड़े करीब 50 से 60 लोगों का संबोधन होगा। इसके लिए अयोध्या को किले में तब्दील कर दिया गया है।
- आज दो से तीन लाख रामभक्तों के अयोध्या पहुंचने का अनुमान।
- अयोध्या आने वाली ट्रेनों में भारी भीड़ है। धर्मसभा का कार्यक्रम सुबह करीब 11 बजे शुरू होकर शाम 4 बजे तक चलेगा।
- माना जा रहा है कि आंदोलन शांतिपूर्ण रहेगा। सूत्रों के मुताबिक जो लोग अयोध्या आ रहे हैं, उनके रहने की कोई व्यवस्था नहीं है, इसलिए वे रैली के बाद वापस चले जाएंगे।
-  शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे अपने परिवार और समर्थकों के साथ शनिवार को ही अयोध्या पहुंच चुके थे। (Photo courtesy: ANI)

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING