देश के लिए इलेक्ट्रिक वाहनों का बड़ा अवसर, 2025 तक दोपहिया वाहनों को बिजली चालित बनाने का प्रस्ताव

बुधवार, 17 जुलाई 2019 (21:40 IST)
नई दिल्ली। नीति आयोग के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अमिताभ कांत ने बुधवार को कहा कि इलेक्ट्रिक वाहन खंड भारतीय विनिर्माताओं के लिए बड़ा अवसर है और उन्हें ये मॉडल न केवल घरेलू बाजार के लिए बल्कि निर्यात के लिए उत्पादित करने चाहिए।
 
'एंटरप्रेन्योर 2019' के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कांत ने 2030 तक भारत की अर्थव्यवस्था 10,000 अरब डॉलर पहुंचाने के वृहद लक्ष्य पर भी जोर दिया।
 
कांत ने कहा कि इलेक्ट्रिक वाहन एक उभरता अवसर है, क्योंकि भारत में 72 प्रतिशत से अधिक दोपहिया वाहन हैं जिसे इलेक्ट्रिक चालित बनाने का प्रयास होना चाहिए और साथ ही दुनिया के बाजारों के लिए इलेक्ट्रिक वाहन विनिर्मित करना है।
 
नीति आयोग ने सभी तीन पहिया और 150 सीसी से कम दोपहिया वाहनों को क्रमश: 2023 तथा 2025 तक बिजली चालित बनाने का प्रस्ताव रखा है। अर्थव्यवस्था के आकार में वृद्धि के बारे में उन्होंने कहा कि आने वाले समय में स्टार्टअप और उद्यमशीलता महत्वपूर्ण होंगे।
 
कांत ने कहा कि देश की आबादी को गरीबी रेखा से ऊपर लाने के लिए भारत को 9-10 प्रतिशत सालाना की दर से वृद्धि करने की जरूरत है और यह वृद्धि तब तक संभव नहीं है, जब तक कि हम उद्यमशीलता को नहीं बढ़ाते। इस वृद्धि में वैश्वीकरण और शहरीकरण आगे रहने वाला है।
 
कांत ने कहा कि शहरीकरण के कारण कई अवसर उभर रहे हैं। देश में हर मिनट में 30 लोग शहरी भारत में पलायन कर रहे हैं। यह स्टार्टअप के लिए बड़ा अवसर है। इसके अलावा जलचक्रण, परिवहन, शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, इलेक्ट्रिक वाहन और कई अन्य क्षेत्रों में काफी अवसर हैं। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख वैज्ञानिकों ने क्रिकेट बैट निर्माण के लिए बनाई एल्गोरिदम, कम कीमत में बन सकेंगे बेहतरीन बल्ले