Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

टीएमसी सांसद मिमी चक्रवर्ती के साथ ‘वैक्‍सीनेशन फ्रॉड’, कैंप में बुलाकर लगा दिया ‘फेक वैक्‍सीन’, पुलिस जांच में जुटी

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 24 जून 2021 (11:47 IST)
कोरोना से बचने के लिए वैक्‍सीनेशन बेहद जरूरी है, लेकिन अब इसका लोग गलत इस्‍तेमाल भी कर रहे हैं। बंगाली फिल्म अभिनेत्री और तृणमूल कांग्रेस सांसद मिमी चक्रवर्ती कोरोना के फ्रॉड टीके का शिकार हो गई हैं। इसके साथ ही कोलकाता में फर्जी वैक्सीनेशन सेंटर का भंडाफोड़ हो गया है।

एक शख्स ने खुद को आईएएस अफसर बताते हुए मिमी को झांसा दिया। कोलकाता पुलिस ने देबांजन देब नाम के शख्स को इस मामले में गिरफ्तार किया है।

टीएमसी सांसद मिमी ने बताया, 'मेरे पास एक शख्स ने अपने आपको आईएएस ऑफिसर बताया और कहा कि वे ट्रांसजेंडर्स और दिव्यांगों के लिए स्पेशल वैक्सीनेशन ड्राइव चला रहे हैं। इसके साथ ही उस शख्स ने मुझसे वैक्सीनेशन कैंप में आने का अनुरोध किया।'

टीएमसी सांसद ने आगे बताया, 'मैंने लोगों का मनोबल बढ़ाने के लिए कोविशील्ड की वैक्सीन भी लगवाई, लेकिन कभी भी को-विन से कंफर्मेशन का मेसेज नहीं आया। इसके बाद कोलकाता पुलिस से मैंने शिकायत की और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया।' मिमी चक्रवर्ती का कहना है कि आरोपी शख्स फर्जी स्टिकर और नीली बत्ती भी अपनी गाड़ी पर इस्तेमाल कर रहा था।

कोलकाता पुलिस का कहना है, 'हमें ऐसी कोई वायल नहीं मिली है, जिस पर एक्सपायरी डेट हो। जब्त की गई वैक्सीन वायल को जांच के लिए भेजा जाएगा, जिससे पता चल सके कि वह असली है या नकली। आरोपी से इस संबंध में पूछताछ की जाएगी।' मामले की जांच कोलकाता पुलिस डिटेक्टिव डिपार्टमेंट के पास है।

जादवपुर से लोकसभा सांसद मंगलवार को कस्बा इलाके में एक वैक्सीनेशन कैंप में पहुंची थीं। उन्होंने यहां कथित कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगवाई। लेकिन उन्हें उस वक्त संदेह हुआ जब वैक्सीन लगवाने के बावजूद कोई मेसेज उनके पास नहीं आया। जब उन्होंने इस सिलसिले में आयोजकों से बात की तो कहा गया कि चार दिन के अंदर उन्हें एक सर्टिफिकेट भेज दिया जाएगा। इसके बाद मिमी ने इस मामले के बारे में पुलिस अधिकारियों को जानकारी दी।

पुलिस का कहना है कि कस्बा सेंटर पर पिछले छह दिनों के दौरान कम से कम 250 लोगों को कथित वैक्सीन लगाई गई है। जांच में यह भी पता चला है कि आरोपी देबांजन देब ने इसी तरह से नॉर्थ और सेंट्रल कोलकाता में फर्जी कैंप आयोजित किए थे। इनमें से एक नॉर्थ कोलकाता के सिटी कॉलेज और एक कैंप सोनारपुर में 3 जून को लगाया गया था। पूछताछ में देब ने पुलिस को बताया है कि उसने बगड़ी मार्केट और स्वास्थ्य भवन के बाहर से वैक्सीन ली थी।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

सोनिया ने टीकाकरण की गति को लेकर चिंता जताई, तीसरी लहर की तैयारी और बच्चों की सुरक्षा पर जोर