Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

पूर्व कानून मंत्री ने कहा, प्रशांत भूषण को सजा देना जरूरी नहीं था...

हमें फॉलो करें webdunia
सोमवार, 31 अगस्त 2020 (18:17 IST)
बेंगलुरु। पूर्व कानून मंत्री एम. वीरप्पा मोइली ने सोमवार को कहा कि उच्चतम न्यायालय द्वारा अधिवक्ता प्रशांत भूषण को सजा दिया जाना जरुरी नहीं था। उन्होंने कहा कि भूषण के खिलाफ मामले को बार काउंसिल ऑफ इंडिया को भेजा जा सकता था।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा कि अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल और कई न्यायविदों और अधिवक्ताओं ने उच्चतम न्यायालय से अनुरोध किया था कि उन्हें सजा न दी जाए। मोइली ने कहा कि न्यायाधीशों को उनके खिलाफ आरोप लगाने वालों को सजा/दंड देने का काम खुद नहीं करना चाहिए।
webdunia

अवमानना मामले में न्यायालय द्वारा भूषण पर एक रुपए का जुर्माना लगाए जाने को लेकर मोइली ने कहा, ऐसा प्रतीत होता है कि इसकी कोई जरूरत नहीं थी। उन्होंने कहा, यह प्राकृतिक न्याय के अनुरूप नहीं है। यह न्यायपालिका के उच्च मानदंडों के अनुरूप भी नहीं है।
ALSO READ: प्रशांत भूषण को बाबा रामदेव से क्यों मांगनी पड़ी माफ़ी?
न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि न्यायपालिका के खिलाफ दो ट्वीट करने के मामले में दोषी भूषण को 15 सितंबर तक जुर्माने की राशि उच्चतम न्यायालय की रजिस्ट्री में जमा करानी होगी।

पीठ ने कहा कि जुर्माना भरने में असफल रहने पर दोषी को तीन महीने कारावास की सजा भुगतनी होगी और तीन साल तक वकालत करने पर प्रतिबंध रहेगा।(भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

लंबे समय तक कांग्रेस के संकटमोचक रहे प्रणब दा