Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Hyderabad case : हैदराबाद गैंगरेप कांड की लोकसभा में गूंज, जीरो टॉलरेंस के साथ ही कानून में बदलाव के लिए सरकार तैयार

webdunia

वार्ता

सोमवार, 2 दिसंबर 2019 (15:28 IST)
नई दिल्ली। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला तथा सभी दलों के सदस्यों ने तेलंगाना के शमशाबाद में एक पशु चिकित्सक के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना की सोमवार को निंदा की और सरकार ने सदन को आश्वस्त किया कि ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति पर काम करते हुए ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए वे कानून में सभी जरूरी बदलाव करने के लिए तैयार है।
 
सदस्यों द्वारा शून्यकाल के दौरान इस घटना पर चिंता जताए जाने तथा बलात्कार से संबंधित कानून को और कड़ा बनाए जाने की मांग पर  सरकार की तरफ से रक्षा मंत्री रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि इससे बड़ा कोई अमानवीय कृत्य नहीं हो सकता। इससे सभी आहत हुए हैं।
 
सभी सदस्यों की अपेक्षा है कि इस तरह के मामलों में अपराधियों को कठोर से कठोर दंड मिले। इसके लिए कानून में जो भी बदलाव करना होगा, करने के लिए सरकार तैयार है।
 
उन्होंने कहा कि निर्भया कांड के बाद कानूनों में बदलाव किया गया था तथा फांसी की सजा का प्रावधान किया गया था। इसके बाद सबने यह मान लिया था कि इस तरह की घटनाओं में कमी आएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।
 
उन्होंने इस विषय पर चर्चा कराने या न कराने का फैसला अध्यक्ष पर छोड़ते हुए कहा कि सरकार सभी सदस्यों के सुझाव सुनकर कानूनों में सभी तरह के जरूरी प्रावधान करने के लिए तैयार है।
 
बिरला ने भी पूरे सदन की तरफ से घटना पर दु:ख व्यक्त करते हुए कहा कि ऐसी घटना, इस तरह के अपराध सभी सदस्यों को चिंतित और आहत करते हैं। सदन चिंतित है कि इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो।
 
गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्डी ने भी कानून में हर जरूरी बदलाव के प्रति सदन को आश्वस्त करते हुए कहा कि सरकार ऐसे मामलों में ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति पर काम करेगी। संबद्ध कानूनों में बदलाव का मसौदा तैयार है। पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो को इसकी जिम्मेदारी दी गई है।
 
राज्यों को पत्र लिखकर इस मसौदे पर उनसे सुझाव मांगे गए हैं और इसे जल्द से जल्द संसद में पेश किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने ऐसी घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए पूरे देश में एकल हेल्पलाइन नंबर '112' जारी किया है। (वार्ता)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

मैं 40,000 करोड़ रुपए की केंद्रीय निधि बचाने के लिए नहीं बना था मुख्यमंत्री : देवेंद्र फडणवीस