LOC पर भारत ने पाकिस्तान की कई चौकियों को किया तबाह, सैनिक भी मारे

सुरेश डुग्गर

मंगलवार, 5 मार्च 2019 (18:26 IST)
जम्मू। जम्मू कश्मीर में एलओसी अभी भी गर्म है क्योंकि पाक सेना ने नौशहरा और सुंदरबनी सेक्टर में मंगलवार को एक बार फिर गोलाबारी शुरू कर दी है। सेना भी जवाबी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तानी सेना को मुंहतोड़ जवाब दे रही है। सोमवार को भी एलओसी पर तीन सेक्टरों पल्लांवाला, किरनी व कस्बा सेक्टर में भारी गोलाबारी की। जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान की कई चौकियां तबाह हो गई थीं। कई पाक सैनिकों के भी मारे जाने की सूचना थी।
 
मंगलवार दोपहर नौशहरा और सुंदरबनी सेक्टर में लगातार मोर्टार शेलिंग और फायरिंग जारी है। तोपों से भी गोले बरसाए जा रहे थे। पाक गोले कई घरों के पास गिरने से कई मकानों को भी नुक्सान हुआ है। गोलाबारी के चलते जहां सीमा पर तनाव बना हुआ है, वहीं एलओसी के निकट रहने वाले लोगों में भी दहशत का माहौल बना हुआ है।
 
पुंछ और राजोरी जिले में पाकिस्तान ने 70 से अधिक बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया और 80 गांवों को निशाना बनाया। इसमें एक परिवार के तीन सदस्य सहित चार लोगों की मौत हो गई थी और नौ लोग घायल हुए थे।
 
सोमवार तड़के भी ढाई बजे एलओसी पर जम्मू जिले के पल्लांवाला सेक्टर में अग्रिम चौकियों को निशाना बना कर पाकिस्तान ने भारी गोलाबारी शुरू कर दी थी। इसका सेना ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया, जिसमें पाकिस्तान की कई चौकियों के तबाह होने और सात सैनिकों के मारे जाने की सूचना थी। पल्लांवाला सेक्टर के घिगड़याल-बदोवाल व घरड क्षेत्र में करीब साढ़े पांच बजे तक भारी गोलाबारी जारी रही।
 
गोलाबारी शुरू होते ही दोनों इलाकों के ग्रामीण अपने घरों में चले गए। ज्ञात हो कि राजोरी जिले के नौशेरा सेक्टर में शनिवार दोपहर दो घंटे तक सीमा पार से हुई गोलाबारी के अलावा शुक्रवार रात से एलओसी पर शांति बनी हुई थी। इससे पुंछ तथा राजोरी में एलओसी पर रहने वाले लोगों को काफी राहत मिली जो आज खत्म हो गई।
 
सोमवार को ही पाकिस्तान ने पुंछ जिले के कस्बा और किरनी सेक्टर में सेना की अग्रिम चौकियों और रिहायशी इलाकों को निशाना बनाकर गोले दागने शुरू कर दिए थे। शाम को करीब सवा पांच बजे शुरू हुई गोलाबारी का सेना के जवानों ने मुंहतोड़ जवाब दिया। देर शाम तक दोनों तरफ से गोलाबारी जारी थी।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख तीसरी लोकसभा 1962 : नेहरूजी और शास्त्रीजी की मौत का सदमा