पीएम मोदी की देशवासियों के साथ 55वीं मन की बात

रविवार, 28 जुलाई 2019 (11:15 IST)
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दूसरे कार्यकाल के दौरान दूसरी बार देशवासियों से ‘मन की बात’ कर रहे हैं। इस खास प्रोग्राम में मोदी अक्‍सर सामाजिक और कुछ ताजातरीन मुद्दों पर अपनी राय रखते हैं। यह उनका 55वां रेडियो कार्यक्रम है। पेश है ताजा अपडेट्‍स-

- अंतरिक्ष क्विज प्रतियोगिता में हिस्सा लें युवा। 15 अगस्त नए तरीके से मनाने का प्रयास किया जाएं।
- हमारे लिए जरूरी है कि हमारे समाज में कचरे से कंचन बनाने की संस्कृति जन्म ले।
- हमारी मन की बातों ने स्वच्छता अभियान को समय-समय पर गति दी है और इसी तरह से स्वच्छता के लिए किए जा रहे प्रयासों ने भी 'मन की बात' को हमेशा ही प्रेरणा दी है। 5 साल पहले शुरू हुआ सफर आज जन-जन की सहभागिता से, स्वच्छता के नए-नए मानदंड स्थापित कर रहा है।
- युवाओं को विज्ञान की ओर प्रेरित करेगा चंद्रयान-2। चंद्रयान-2 पूरी तरह भारतीय रंग में ढला है। 
- चंद्रयान-2 यह मिशन कई मायनों में विशेष है। चंद्रयान-2 चांद के बारे में हमारी समझ को और स्पष्ट करेगा।
- 22 जुलाई को पूरे देश ने गर्व के साथ देखा कि कैसे चंद्रयान-2 ने श्रीहरिकोटा से अंतरिक्ष की ओर अपने कदम बढ़ाए। चंद्रयान-2 के प्रक्षेपण की तस्वीरों ने देशवासियों को गौरव और जोश से प्रसन्नता से भर दिया।
- 2019 का साल भारत के लिए बहुच अच्छा रहा। 
- चंद्रयान-2 से मुझे विश्वास और निर्भीकता की सीख मिली।
- मुझे पूरा विश्वास है कि आपको आसमान के भी पार, अंतरिक्ष में, भारत की सफलता के बारे में जरूर गर्व हुआ होगा। 
- हमारे देश के 10 चैंपियंस ने इस टूर्नामेंट में मैडल जीते। इनमें से कुछ खिलाड़ियों ने तो एक से ज्यादा खेलों में मैडल जीते।
-  मास्को में वर्ल्ड चिल्ड्रन्स विर्नस गेम्स का आयोजन हुआ। यह एक ऐसा अनोखा स्पोर्ट टूर्नामेंट है, जिसमें यंग कैंसर सर्वाइवर ही हिस्सा लेते हैं। 
- कैंसर की बीमारी को हराने वाले बच्चों का जिक्र किया और कहा कि बच्चों की उपलब्धियां उत्साह से भर देती हैं। मोदी ने कैंसर से जीतने वाले बच्चों को जिदगी की जंग का चैंपियन बताया।
- त्योहारों का समय आ गया है, जिसमें कई मेले लगते हैं, क्यों न इनका इस्तेमाल जल संरक्षण के लिए किया जाए। मेघालय पहला ऐसा राज्य बन गया है जिसने अपनी जल नीति बनाई है।
- प्रधानमंत्री ने कहा- मोदी ऐप पर एक बुक कॉर्नर होना चाहिए, जहां सभी लोग अपने विचार रख सकेंगे। जल संरक्षण को लेकर भी कई लोगों ने विचार शेयर किए हैं। देशभर में अनेक कार्यक्रम चल रहे हैं, जिसे लेकर मन को संतोष हो रहा है।
- पीएम मोदी ने कहा कि बड़ी संख्या में लोगों ने अनेक प्रकार पुस्तकों के बारे में जानकारी भेजी है। कुछ लोगों ने दूसरी पुस्तकों के बारे में बात करने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि अब मुझे अधिक पुस्तकें पढ़ने का समय नहीं मिल पा रहा है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख मॉब लिंचिंग के नाम पर रची जा रही है हिन्दू धर्म को बदनाम करने की गहरी साजिश : मोहन भागवत