Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

LG सक्सेना का अदालत से अनुरोध, 'आप' को अपमानजनक टिप्पणियां करने से रोकें

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 22 सितम्बर 2022 (16:12 IST)
नई दिल्ली। उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने गुरुवार को दिल्ली उच्च न्यायालय से अनुरोध किया कि वह आम आदमी पार्टी (आप) और उसके नेताओं को उनके और उनके परिवार के खिलाफ 'फर्जी' आरोप लगाने पर रोक लगाए। गौरतलब है कि आप और उसके नेताओं ने सक्सेना पर आरोप लगाया है कि खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के अध्यक्ष रहते हुए वे 1,400 करोड़ रुपए के घोटाले में शामिल थे।
 
न्यायमूर्ति अमित बंसल ने मामले में करीब 2 घंटे सुनवाई की और वादी सक्सेना को अंतरिम राहत देते हुए इस पर फैसला सुरक्षित रख लिया। इसके अलावा सक्सेना ने अनुरोध किया कि अदालत आप और उसके नेताओं आतिशी सिंह, सौरभ भारद्वाज, दुर्गेश पाठक, सजय सिंह और जैशमीन शाह को निर्देश दे कि वे उनके खिलाफ सोशल मीडिया तथा अन्य मंचों पर लगाए गए फर्जी और अपमानजनक आरोपों, ट्वीट और वीडियो आदि को डिलीट करें। उन्होंने आप और उसके 5 नेताओं से मुआवजा के रूप में 2.5 करोड़ रुपए और उस पर ब्याज की मांग की है।
 
सक्सेना के अधिवक्ता ने उच्च न्यायालय से अनुरोध किया कि वह ट्विटर और यू-ट्यूब (गूगल इंक) को वादी और उनके परिवार के सदस्यों को टैग करके किए गए ट्वीट, रि-ट्वीट, पोस्ट, वीडियो व तस्वीरों के साथ लिखे टैगलाइन को अपने-अपने मंचों से हटाने निर्देश दे।
 
वहीं आप और उनके नताओं के अधिवक्ता ने दलील दी कि यह तथ्यात्मक बयान है कि सक्सेना के केवीआईसी के अध्यक्ष पद पर रहने के दौरान उनकी बेटी को खादी का ठेका दिया गया, जो नियमों के खिलाफ था तथा किसी ने इस बयान का खंडन नहीं किया है।(भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Russia-Ukraine War: पुतिन ने और सैनिक बुलाए, परमाणु विकल्प की धमकी देकर यूक्रेन के खिलाफ युद्ध किया तेज