पीएम मोदी का 2019 का सबसे बड़ा इंटरव्यू, नोटबंदी, राम मंदिर, किसान कर्जमाफी, जीएसटी पर दिए जवाब, जानिए 13 बड़ी बातें...

मंगलवार, 1 जनवरी 2019 (20:04 IST)
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नए वर्ष के पहले दिन ANI को दिए 95 मिनट के इंटरव्यू में नोटबंदी, किसानों की कर्जमाफी, जीएसटी, सर्जिकल स्ट्राइक सहित कई मुद्दों पर सवालों के जवाब दिए। प्रधानमंत्री मोदी पर विपक्ष यह आरोप लगाता रहा है कि वे मीडिया के सामने आने से बचते हैं। पीएम मोदी ने लंबे समय बाद मीडिया को यह इंटरव्यू दिया है। 
 
1. नो‍टबंदी देश के लिए झटका नहीं था : प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि नोटबंदी देश के लिए झटका नहीं था। यह फैसला रातोंरात नहीं हुआ। एक साल पहले ही कालेधन को लेकर देश की जनता को सचेत कर दिया गया था। पहले वाली सरकार समझकर कम लोग कालेधन को लेकर बाहर आए। यह प्रक्रिया सालभर चली है। देश के अच्छे स्वास्थ्य के लिए नोटबंदी जरूरी थी। देश में सामानांतर अर्थव्यवस्था चल रही थी। इसने देश को भीतर से खोखला कर दिया था। बोरे भर-भरकर‍ बिस्तरों के नीचे कालाधन छुपाया गया था। नोटबंदी से देश की अर्थव्यवस्था में मजबूती मिली। छिपा हुआ धन बैकिंग व्यवस्था में लौटा। टैक्स देने वालों की संख्या बढ़ी है। इसे सफलता कहा जाएगा।
 
 
2. राम मंदिर पर अध्यादेश नहीं : प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमने पार्टी के घोषणा पत्र में कहा कि अयोध्या में बीजेपी भव्य राम मंदिर के पक्ष में है। प्रधानमंत्री ने कहा कि राम मंदिर पर जब तक कानूनी प्रक्रिया चल रही है, तब तक अध्यादेश लाने का कोई विचार नहीं है। मोदी ने कहा कि बीजेपी के लिए राम मंदिर का निर्माण भावनात्मक मुद्दा है और संविधान के दायरे में ही इसका निर्माण होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि 70 साल राज करने वालों ने राम मंदिर के मुद्दों को अटकाया है। कांग्रेस के वकीलों ने राम मंदिर के मामले पर बाधा डाली है।
 
 
2. जीएसटी को सरल बनाने की कोशिश : प्रधानमंत्री ने जीएसटी को गब्बर सिंह टैक्स कहने वालों पर निशाना साधते हुए कहा कि जिसकी जैसी सोच होती है वैसे उसके शब्द होते हैं। जीएसटी से पहले 30 से 40 प्रतिशत टैक्स वाली चीजें थीं। वस्तु पर बार-बार टैक्स लगता था। पहले हर मुकाम पर टैक्स लगता था, जीएसटी की वजह से आसानी हुई। जीएसटी की वजह से वस्तुओं पर टैक्स कम हुआ। जीएसटी नई व्यवस्था है। जीएसटी की वजह से छोटे व्यापारियों को कुछ परेशानी हुई है, इन बातों को जीएसटी काउंसिल में रखा जाता है। जीएसटी को हम सरल बनाने की कोशिश कर रहे हैं।
 
 
3. मीडिल क्लास का भी रखा ध्यान : पीएम मोदी ने कहा कि मीडिल क्लास के लिए सोच बदलने पड़ेगी। वह स्वाभिमान से जीने वाला वर्ग है। देश को चलाने में इनकी बड़ी जिम्मेदारी है। मीडिल क्लास की चिंता करना हमारा दायित्व है। महंगाई घटी है, इससे सबसे ज्यादा फायदा मीडिल क्लास को हुआ है। मीडिल क्लास को पहले लोन नहीं मिलता था। मीडिया क्लास के लिए मुद्रा योजना, घर बनाने के लिए लोन योजना बनाई है। स्टार्टअप योजना को ‍मीडिल क्लास चला रहा है। सबसे ज्यादा काम मीडिल क्लास के लिए हुआ है। आयुष्मान योजना का फायदा मीडिल क्लास को हुआ।
4. किसान कर्जमाफी हल नहीं : पीएम मोदी ने कहा कि झूठ बोलना, लोगों को भ्रमित करने को कांग्रेस का लॉलीपॉप कहा है। कांग्रेस ने सभी किसानों का कर्ज माफ नहीं किया है। बार-बार कर्जमाफ के बाद भी किसान कर्जदार बना रहता है। 2008-09 का चुनाव जीतने के लिए कर्जमाफी की गई। सिर्फ कर्जमाफी से किसान का भला नहीं होगा। किसानों को मजबूत करना होगा। बैंकों का 3 लाख करोड़ रुपए वापस लाने का काम मोदी सरकार ने किया है। हमें ऐसी स्थिति बनानी होगी कि किसान कर्जदार ही न बनें। हम किसान को मजबूत बना रहे हैं। 
 
5. भाजपा को मोदी-शाह नहीं चलाते हैं : प्रधानमंत्री ने इस आरोप जवाब दिया कि एक या दो लोग भाजपा को चलाते हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग जानते नहीं हैं, वे ऐसी बातें करते हैं। बीजेपी मोदी और अमित शाह के दम पर नहीं पोलिंग बूथ से चलती है। 
 
6. भगोड़ों से वसूलेंगे पाई-पाई : प्रधानमंत्री ने कहा विजय माल्या और नीरव मोदी पर कहा कि भगोड़ों की संपत्ति जब्त करने का कानून बनाया गया है। आज नहीं तो कल भोगड़े वापस आएंगे। आज दुनिया के देश भगोड़ों पर जानकारी देने के लिए तैयार है। भगोड़ों से पाई-पाई वापस लेकर रहेंगे। माल्या, नीरव इसलिए भागे क्योंकि उन्हें यहां के कानून का पालन करना पड़ता। 
 
7. कांग्रेस कल्चर से देश को मुक्ति : पीएम मोदी ने कहा ‍कांग्रेस का कल्चर जातिवाद, भ्रष्टाचार, परिवारवाद है। इतने वर्षों तक यह कल्चर भारत की राजनीति में हावी रहा है। मैं इस कल्चर से मुक्त करने की बात कहता हूं। इसलिए कांग्रेस मुक्त भारत कहता हूं।
 
8. खुद को बचाने के लिए महागठबंधन : प्रधानमंत्री ने कहा कि महागठबंधन का एकमात्र निशाना मोदी है। खुद को बचाने का सहारा ढूंढ रहे हैं। विपक्ष सीटों का हिसाब नहीं करेगा तो गठबंधन कैसे बनेगा। लोकसभा 2019 का चुनाव जनता और महागठबंधन के बीच होगा। 
9. तीन तलाक समानता का मुद्दा : प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया के कई मुस्लिम देशों में तीन तलाक पर प्रतिबंध है। तीन तलाक धार्मिक आस्था का नहीं सामाजिक समानता का मुद्दा है।
 
10. सर्जिकल स्ट्राइक का राजनीतिकरण नहीं : सर्जिकल स्ट्राइक का राजनीतिकरण विपक्ष ने किया। उरी आतंकी हमले में जवानों को जिंदा जलाया गया, इसे लेकर मेरे और सैनिकों में गुस्सा था। मुझसे ज्यादा गुस्सा सैनिकों में था मेरी सबसे बड़ी चिंता जवानों की सुरक्षा थी। उन्होंने कहा कि सैनिकों की सुरक्षा की चिंता थी। सर्जिकल स्ट्राइक में हमारा कोई जवान शहीद नहीं हुआ। मैं पूरे ऑपरेशन पर नजर रख रहा था। मैं नहीं चाहता था कि सर्जिकल स्ट्राइक पर जाने वाले हमारे जवानों को कुछ हो। सर्जिकल स्ट्राइक के लिए जवानो को सीक्रेट और खास ट्रेनिंग दी गई थी। 
 
11. राफेल पर बार-बार नहीं बोलूंगा :पीएम मोदी ने कहा कि राफेल को लेकर मुझ पर व्यक्तिगत आरोप नहीं, सरकार पर है। संसद और जनता के सामने राफेल पर विस्तार से जवाब दिया है। मैंने एक बार जवाब दे दिया है। मैं बार-बार नहीं बोलूंगा। देश में चर्चा यह होनी चाहिए कि आजादी के बाद रक्षा सौदे हमेशा विवादों में क्यों रही। कौन ये षड्‍यंत्र कर रहा था। रक्षा सौदों में दलालों की जरूरत क्यों पड़ी। 70 साल पहले मैक इन इंडिया होता तो रक्षा घोटाले नहीं होते। मैं सेना के जवानों को भाग्य पर नहीं छोड़ूगा।
 
 
12. क्या मुस्लिमों में एक भय है : पीएम मोदी ने कहा कि क्या 2014 के पहले हिंसा की घटनाएं नहीं होती थीं। हिंसा की एक भी घटना बर्दाश्त नहीं की जाएगी। हमने धर्म-संप्रदाय को देखकर गांवों को बिजली नहीं पहुंचाई है। चुनाव से पहले असहिष्णुता और डर दिखने लगता है। हिंसा की घटनाएं देश में होना दुर्भाग्यपूर्ण है। 
 
13. सीबीआई, आरबीआई पर सरकार का दबाव नहीं है : पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस को इनके खिलाफ बोलने का हक नहीं। केंद्र सरकार ने न्यायिक तरीकों से काम किया है। गवर्नर छ:-सात महीनों से इस्तीफे के लिए लगातार कह रहे थे। उर्जित पटेल ने अच्छा काम किया है। कांग्रेस ने पीएमओ के पॉवर कम करने के लिए एनएसी बना दी थी। मिशेल को बचाने के लिए कांग्रेस के वकील पहुंचते हैं तो चिंता होती है। ईडी अपना प्रोफेशनल काम कर रही है। (Photo courtesy: ANI)

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING