Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

स्वतंत्रता दिवस पर दिल्ली में नहीं होगी किसान रैली, बॉर्डरों पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम

हमें फॉलो करें webdunia
शनिवार, 14 अगस्त 2021 (15:39 IST)
नई दिल्ली। स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी में किसान आंदोलन से संबंधित कोई भी कार्यक्रम नहीं करने के किसान नेताओं के एलान के बावजूद दिल्ली की सीमा पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।
 
पुलिस सूत्रों ने शनिवार को बताया कि किसान नेताओं ने रविवार को भले ही दिल्ली में कार्यक्रम नहीं करने तथा धरनास्थलों पर ही शांतिपूर्ण तरीके से ध्वजारोहण कर आजादी के जश्न में शामिल होने की बात कही है, लेकिन पिछला अनुभव उसके उलट है।
 
यही वजह है कि राजधानी की सीमाओं पर 26 जनवरी की तुलना में अधिक सतर्कता बरती जा रही है ताकि पिछली बार की तरह की दुर्भाग्यपूर्ण घटना को अंजाम देने का मौका किसी को न मिले।
 
webdunia
उन्होंने बताया कि दिल्ली पुलिस के जवानों के अलावा केंद्रीय अर्धसैनिक बलों की अतिरिक्त तैनाती के साथ ही अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से सुरक्षा निगरानी की व्यवस्था की गई है। एहतियातन ऐसी अभेद्य सुरक्षा की व्यवस्था की गई है कि स्वतंत्रता दिवस समारोहों के दौरान किसी स्तर पर भी खलल पड़ने की गुंजाइश नहीं है।
 
उन्होंने बताया कि यह सही है कि गत दिनों ‘समानांतर किसान संसद’ के दौरान कई किसान नेताओं ने स्वतंत्रता दिवस पर जंतर मंतर 
 
कार्यक्रम स्थल पर तिरंगा फहराने का एलान किया था लेकिन संसद सत्र के निर्धारित अवधि से पूर्व समाप्त होने के बाद उन्होंने भी अपना ‘सत्र’ समाप्त कर दिया और पूरा इलाका खाली कर दिया। इसके बाद किसी संगठन की ओर से कोई कार्यक्रम करने की अनुमति नहीं ली गई है।
 
webdunia
किसान शक्ति संघ के अध्यक्ष पुष्पेंद्र चौधरी ने कहा कि दिल्ली की सीमाओं पर महीनों से धरना दे रहे आंदोलनकारी किसानों का 15 अगस्त को दिल्ली की सीमा में प्रवेश करने का कोई इरादा नहीं है। वे धरनास्थलों पर ही तिरंगा झंडा लहराकर राष्ट्रीय त्योहार में शामिल होंगे।
 
इसके बाद जगह-जगह रैलियां निकालकर अपनी आवाज सरकार तक पहुंचाने का सिलसिला जारी रहेगा। उन्होंने बताया दिल्ली की सीमाओं से बाहर रैली, ट्रैक्टर रैली, मोटरसाइकिल रैली एवं अन्य कार्यक्रमों के माध्यम से किसान अपनी आवाज बुलंद करेंगे। सभी कार्यक्रम शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न होंगे। शरारती तत्वों को मौका नहीं मिले, इसके लिए अधिक सतर्कता बरती जा रही है।
 
गौरतलब है कि इस वर्ष गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रैली अनियंत्रित हो गई थी। पुलिस एवं आंदोलनकारियों के बीच हिंसक घटनाओं में अनेक किसान एवं पुलिस कर्मी घायल हुए थे। एक युवा किसान की मृत्यु हो गई थी। बड़ी संख्या में किसान लाल किला पहुंच गए थे। (वार्ता) 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

बिहार में कहर बरपाता चमकी बुखार, 2 और बच्चों की मौत, अब तक 15 मृत