Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

अब एयरपोर्ट पर रोबोट करेंगे यात्रियों की मदद, बेंगलुरु और कोयंबटूर में शुरू हुए ट्रायल

हमें फॉलो करें webdunia
शुक्रवार, 10 जून 2022 (16:20 IST)
Photo - Twitter
बेंगलुरु। बेंगलुरु के अंतराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर भविष्य के भारत की झलक नजर आई है। यहां के केम्पेगौड़ा एयरपोर्ट के टर्मिनल-1 पर यात्रियों की सहायता के लिए 'टेमी' नामक 10 एआई रोबोट्स तैनात किए गए हैं। ये रोबोट यात्रियों को उनके बोर्डिंग गेट, शॉपिंग एरिया, बैगेज क्लेम एरिया, पीने का पानी और वॉश रूम आदि खोजने में मदद करेंगे। 
 
एयरपोर्ट के अधिकारियों का कहना है कि यात्रियों की प्रतिक्रिया जानने के बाद रोबोट की संख्या बढ़ाई जाएगी और उनकी जरूरतों के आधार पर इन्हे और ज्यादा विकसित किया जाएगा। इन रोबोट्स की संचार की डिफॉल्ट भाषा अंग्रेजी रखी गई है तथा यात्री अपनी सुविधा के अनुसार क्षेत्रीय और अंतराष्ट्रीय भाषा सिलेक्ट कर सकतें हैं। 
 
इसी तरह गुरूवार को कोयंबटूर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर भी यात्रियों की सहायता के लिए एआई रोबोट का ट्रायल शुरू कर दिया है। ट्रायल के शुरू के कुछ महीनों में एयरपोर्ट पर दो रोबोट तैनात किए गए हैं, जिनमें से एक आगमन (Entrance) और दूसरा प्रस्थान (Exit) गेट के पास है। ये रोबोट टर्मिनल पर आने वाले लोगों को नेविगेट करते हुए उन्हें अपने गंतव्य तक पहुचाएंगे। इसके अलावा ये यात्रयों का अभिवादन करेंगे और उनके प्रश्नों के समाधान में उनकी मदद करेंगे। इस पूरी प्रक्रिया पर नजर रखने के लिए एक एआई सॉफ्टवेयर भी तैयार किया गया है। 
एयरपोर्ट अधिकारियों का कहना है कि हवाई यात्रा करने वाले कई लोगों को हेल्प डेस्क, वॉशरूम, रेस्ट एरिया, रिफ्रेशमेंट एरिया जैसे जगहें ढूंढने में दिक्कतें आती हैं। इसी समस्या के हल खोजते हुए एआई रोबोट्स की तैनाती की जा रही है। यदि किसी कारण से, रोबोट यात्रियों द्वारा दिए गए प्रश्नों के उत्तर देने नहीं दे पाएंगे, तो यात्रियों को रोबोट स्क्रीन पर ही वीडियो कॉल के माध्यम से तुरंत 'एयरपोर्ट हेल्प डेस्क से कनेक्ट कर दिया जाएगा। 
 
बेंगलुरु हवाई अड्डे के प्रमुख ने कहा कि टेमी, जिसे स्काई भी कहा जाता है, न केवल यात्रियों के सवालों के जवाब देगा बल्कि उन्हें एयरपोर्ट कैंपस में स्थित विभिन्न स्थानों को ढूंढने में मदद भी करेगा। अभी ट्रायल चल रहा है, यात्रियों के फीडबैक के आधार पर एआई सॉफ्टवेयर में सुधार के बाद ऐसे और रोबोट तैनात किए जाएंगे। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Crude Oil 10 साल के उच्च स्तर 121 डॉलर प्रति बैरल पर, लेकिन पेट्रोल और डीजल के दाम स्थिर