Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

बड़ा खुलासा : पाक आतंकी संगठन अनसारुल मुजाहिदीन ने दी सांसद साध्वी प्रज्ञा को जान से मारने की धमकी !

webdunia
webdunia

विकास सिंह

मंगलवार, 14 जनवरी 2020 (17:12 IST)
भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को जान से मारने की धमकी मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। पुलिस की जांच में खुलासा हुआ है कि आतंकी संगठन अनसारुल मुजाहिदीन ने सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को जान से मारने की धमकी दी है। रविवार को साध्वी प्रज्ञा के भोपाल स्थित घर पर जो कैमिकल मिला हुआ लिफाफा और उर्दू में लिखी हुई चिट्ठी मिली थी उसमें आतंकी संगठन अनसारुल मुजाहिदीन के नाम का जिक्र है।

उर्दू में लिखी चिट्टी में अनसारुल संगठन ने साध्वी प्रज्ञा को जान से मारने की धमकी देते हुए लिखा कि अनसारुल 
संगठन का काम जहन्नुम पहुंचाना है। पुलिस से जुड़े सूत्रों के मुताबिक चिट्ठी में साध्वी प्रज्ञा को धमकी देते हुए लिखा गया है कि ‘कानून तुझे सजा दे न दे,मगर अनसारुल का असली काम जहन्नुम पहुंचाना है, इस नेक काम से जन्नत मिलेगी.....कहां से हैं, क्या करते हैं...सोचना नहीं...कुछ पता नहीं चलेगा....वैसे भी हम लोग जान हथेली पर लेकर चलते है...तून इंसानियत के खिलाफ बहुत जुल्म किए है’। 
webdunia
इसके साथ ही पत्र में मालेगांव बम ब्लास्ट का जिक्र करते हुए लिखा है कि ‘जमानत पर बाहर आकर ऐश कर रही है,लोगों के बीच दुश्मनी पैदा कर रही है,तू खुद को देशभक्त कहती है,असल में तू देशद्रोही है’। इसके साथ ही उर्दू में लिखी चिट्ठी में साध्वी प्रज्ञा को लेकर कई और आपत्तिजनक बातें लिखी हुई है। अनासरुल आतंकी संगठन का पहली बार नाम 2013 में पाकिस्तान में हुए एक आत्मघाती बम धमाके में सामने आया था। वहीं पुलिस इस मामले पर अभी ज्यादा कुछ बोलने से बच रही है। 
 
सागर भेजा गया संदिग्ध लिफाफा – वहीं सांसद साध्वी प्रज्ञा के पास जो संदिग्ध कैमिकल युक्त लिफाफा पहुंचा था उसको पुलिस ने जब्त कर कैमिकल की पहचान के लिए सागर भेज दिया है। गौरतलब हैं कि भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने रविवार को पुलिस से शिकायत की थी कि उनको एक पत्र के जरिए जान से मारने की धमकी मिली है। इसके साथ ही साध्वी प्रज्ञा ने चिट्ठी में खतरनाक कैमिकल मिले होने का शक जताते हुए उससे इंफेक्शन की बात भी कही थी।   
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

मीनाक्षी लेखी का सत्या नडेला को जवाब, साक्षर लोगों को शिक्षित होने की जरूरत