Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

'भारत जोड़ो यात्रा' के कारण राहुल गांधी के शीतकालीन सत्र में शामिल होने की संभावना नहीं

हमें फॉलो करें Rahul Gandhi
शनिवार, 12 नवंबर 2022 (18:55 IST)
नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के 'भारत जोड़ो यात्रा' के चलते संसद के आगामी शीतकालीन सत्र में शामिल होने की संभावना नहीं है। यह यात्रा अपना आधा पड़ाव पूरा कर चुकी है और 20 नवंबर तक महाराष्ट्र में है। संसद के शीतकालीन सत्र के दिसंबर के पहले हफ्ते में पुराने भवन में शुरू होने तथा महीने के अंत तक चलने की संभावना है।

पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने यह जानकारी दी। रमेश ने कहा, राहुल गांधी जी ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में शामिल हैं। उनके वहां से आकर सत्र में शामिल होने की संभावना नहीं है। उनका कहना है कि राहुल गांधी के अलावा सिर्फ दिग्विजय सिंह, वह (रमेश) और केसी वेणुगोपाल ही ऐसे सांसद हैं जो इस यात्रा में नियमित रूप से शामिल हैं।

उन्होंने कहा, ऐसा नहीं है कि बहुत सारे सांसद इस यात्रा में शामिल हों। संसद के शीतकालीन सत्र के दिसंबर के पहले हफ्ते में पुराने भवन में शुरू होने तथा महीने के अंत तक चलने की संभावना है। सूत्रों ने बताया कि 7 से 29 दिसंबर के बीच सत्र आयोजित करने का प्रस्ताव है और तारीखों के संबंध में अंतिम फैसला संसदीय मामलों की कैबिनेट समिति करेगी।

रमेश ने कहा कि राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के नेताओं सुप्रिया सुले, जयंत पाटिल एवं जितेंद्र चव्हाण और शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) के आदित्य ठाकरे के ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में शामिल होने से स्पष्ट हो गया है कि ‘महा विकास आघाड़ी’ (एमवीए) एकजुट है।

उन्होंने बताया कि यह यात्रा अपना आधा पड़ाव पूरा कर चुकी है और 20 नवंबर तक महाराष्ट्र में हैं। रमेश ने कहा, यात्रा 22 नवंबर को मध्य प्रदेश में प्रवेश करेगी। उनके अनुसार, ओडिशा और असम में प्रदेश स्तर पर ‘भारत जोड़ो यात्रा’ चल रही है।

इसके बाद 19 नवंबर को त्रिपुरा और 28 दिसंबर को पश्चिम बंगाल में कोलकाता से सिलिगुड़ी तक ऐसी यात्रा निकाली जाएगी।रमेश ने कहा कि बिहार में बांका से बोधगया तक ‘भारत जोड़ो यात्रा-बिहार’ निकाली जाएगी, हालांकि इसकी तिथि अभी तय नहीं है।(भाषा)
Edited by : Chetan Gour

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

क्रिप्टो एक्सचेंज में इतनी बड़ी गिरावट पर कोई अचरज नहीं होना चाहिए