गृहमंत्री अमित शाह से मिलीं राजीव गांधी के हत्यारे की मां

सोमवार, 29 जुलाई 2019 (23:57 IST)
नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के अपराध में आजीवन कारावास की सजा काट रहे एजी पेरारीवालन की मां अरपुताम्मल ने सोमवार को नई दिल्ली में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात कर इस मामले के सभी सातों सजायाफ्ता कैदियों को जल्द रिहा करने की मांग की।
 
अरपुताम्मल के साथ लोकसभा सांसद वीसीके नेता थोल तिरुमावालावन और डी. रविकुमार भी मौजूद थे। उन्होंने शाह को ज्ञापन सौंपकर सातों कैदियों की जल्द रिहाई की मांग की। उल्लेखनीय है कि इनकी की रिहाई पर फैसला तमिलनाडु के राज्यपाल के पास लंबित है।
 
शाह से मुलाकात के बाद अरपुताम्मल ने पत्रकारों से कहा कि गृहमंत्री ने उन्हें इस मामले में जरूरी कदम उठाने का आश्वासन दिया है तथा वे पिछले 28 वर्षों से अपने लड़के को रिहा करने की लड़ाई लड़ रही हैं।
 
हाल ही में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ईके पलानीस्वामी ने विधानसभा में कहा था कि राज्य सरकार सभी 7 कैदियों की रिहाई के लिए प्रतिबद्ध है। पलानीस्वामी ने कहा कि उच्चतम न्यायलय के फैसले के आधार पर मंत्रिमंडल ने संविधान के अनुच्छेद 161 के तहत उनकी रिहाई की सिफारिश करने वाला एक प्रस्ताव राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित को भेज दिया गया है।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले पर फैसला अब राज्यपाल को करना है। गांधी की हत्या के सातों सजायाफ्ता कैदी वी. श्रीहरन, टी. सुतानतीराराजा, एजी पेरारीवालन, जयाकुमार, रॉबर्ट पयास और नलिनी आदि पिछले 28 वर्षों से जेल में हैं और उनकी रिहाई के लिए कई राजनीतिक पार्टियों के नेताओं को ज्ञापन सौंपे जा चुके हैं। इसके अलावा राज्यपाल पर इस मामले में जल्द फैसला लेने का दबाव डालने के लिए राज्य सरकार से आग्रह किया गया है।
 
राज्य मंत्रिमंडल ने पिछले वर्ष सितंबर में संविधान की धारा 161 के तहत राज्यपाल को सभी 7 कैदियों को रिहा करने का प्रस्ताव भेजा था। सर्वोच्च अदालत के फैसले के अनुसार इस मामले पर फैसला राज्यपाल को लेना है, जो गत वर्ष सितंबर से उनके पास लंबित पड़ा है। राजभवन ने हालांकि इस पर पिछले वर्ष 15 सितंबर को कहा था कि राज्यपाल संविधान के तहत सही फैसला लेंगे।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख अमरनाथ यात्रा के 29वें दिन तक 3.22 लाख श्रद्धालुओं ने किए बाबा बर्फानी के दर्शन