Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

रांची में हिंसक प्रदर्शन, पुलिसकर्मियों समेत दर्जनभर से ज्यादा लोग घायल, पूरे शहर में कर्फ्यू

हमें फॉलो करें webdunia
शुक्रवार, 10 जून 2022 (18:47 IST)
रांची। प्रांतीय राजधानी रांची में शु्क्रवार को जुमे की नमाज के बाद असामाजिक तत्वों ने पैगंबर मोहम्मद के संबंध में कथित आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाली भाजपा की निलंबित नेता नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर मुख्य सड़क पर जमकर बवाल किया और हनुमान मंदिर तक भारी पथराव और हिंसक संघर्ष किया। घटना के बाद रांची में तत्काल प्रभाव से कर्फ्यू लगा दिया गया है।
 
पुलिस ने बताया कि हनुमान मंदिर पर हुए पथराव और हिंसक संघर्ष में रांची के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, स्थानीय डेली मार्केट के थानेदार समेत दर्जन भर पुलिसकर्मी एवं अन्य लोग घायल हो गए। पुलिस को हिंसक भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े और हवा में गोलियां चलानी पड़ीं, गोलीबारी करनी पड़ी। घटना के बाद हालात को ध्यान में रखते हुए उपायुक्त छविरंजन ने रांची शहर में तत्काल प्रभाव से कर्फ्यू लगा दिया है।
 
रांची के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुरेन्द्र कुमार झा ने शहर के मेन रोड इलाके में जुमे की नमाज के बाद एकरा मस्जिद और आसपास के इलाकों से भारी संख्या में जमा उपद्रवियों ने पथराव किया और कुछ स्थानों पर गोलीबारी भी की। स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और हवा में गोलियां चलाईं। स्थिति को नियंत्रित करने में पुलिस प्रशासन को भारी कठिनाई का सामना करना पड़ा।
webdunia
उन्होंने बताया कि सैकड़ों की संख्या में पथराव कर रहे उपद्रवियों को खदेड़ने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा, लेकिन इससे भी जब बात नहीं बनी तो पुलिस को हवा में गोलियां चलानी पड़ीं। मौके पर पहुंचे रांची के उपायुक्त छविरंजन ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए तत्काल प्रभाव से रांची शहर में कर्फ्यू लगा दिया है। गौरतलब है कि कर्फ्यू के आदेश के बाद पुलिस लोगों से घर के भीतर रहने की चेतावनी और बिना इमरजेंसी के बाहर नहीं निकलने की सलाह दे रही है।
 
पुलिस सूत्रों ने बताया कि उपद्रवियों की गोलीबारी और पथराव में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक तथा डेली मॉर्केट के थानाध्यक्ष समेत अनेक पुलिसकर्मी एवं दर्जन भर आम लोग भी घायल हो हुए हैं। घायलों में से कई लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है।
 
इस बीच डेली मॉर्केट के व्यापारिक संघ के अध्यक्ष मोहम्मद हासिम ने बताया कि मुसलमानों ने पैगंबर साहब के खिलाफ टिप्पणी करने वाले भाजपा नेताओं की गिरफ्तारी की मांग के साथ जुलूस निकालने की अनुमति मांगी, लेकिन उन्हें जुलूस नहीं निकालने दिया गया जिसके बाद स्थिति बिगड़ गयी।
webdunia
इस बीच मेन रोड पर स्थित हनुमान मंदिर के व्यवस्थापकों एवं आसपास के प्रसाद विक्रेता दूकानदारों ने आरोप लगाया है कि प्रदर्शनकारियों ने मंदिर के द्वार, झंडे आदि को भी नुकसान पहुंचाने का प्रयास किया, प्रसाद की दुकानों पर रखे प्रसाद को नीचे गिरा दिया। उन्होंने बताया कि मंदिर के निकट हिंदू संगठनों के विरोध के बाद और पुलिस के पहुंचने पर उपद्रवी वहां से पीछे हटे।
 
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक झा ने बताया कि पूरे शहर में और विशेष रूप से मेन रोड इलाके में भारी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है और अन्य इलाकों से केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल और बलों की टुकड़ियां वहां भेजी गई हैं। 
 
इस बीच उपद्रवियों के सड़क से शाम लगभग 5 बजे पीछे हट जाने के बाद मेन रोड और आसपास की गलियों में पुलिस ने फ्लैग मार्च किया और लोगों से घरों से बाहर न निकलने की लाउडस्पीकर पर चेतावनी दी।
 
उपद्रवी भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा एवं दिल्ली के मीडिया प्रमुख नवीन जिंदल के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे और उनकी तत्काल गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

रतलाम में 18 मुसलमानों की घर वापसी, परिवार का दावा 3 पीढ़ी के बाद मुसलमान से हिंदू बने