Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Prophet Remarks Row Protest : 'लोकतंत्र में हिंसा के लिए कोई जगह नहीं', नमाज के बाद बवाल पर बोले केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर

हमें फॉलो करें webdunia
रविवार, 12 जून 2022 (17:30 IST)
लखनऊ। शुक्रवार को नमाज के बाद देश के कई राज्यों में बवाल मचा था। इस बीच हिंसा को लेकर केंद्रीय मंत्री अनुराग का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि कहा कि लोकतंत्र में हिंसा के लिए कोई जगह नहीं है।
 
सूचना एवं प्रसारण मंत्री ठाकुर ने यहां पत्रकारों से कहा कि लोकतंत्र में हिंसा के लिए कोई जगह नहीं है। लोकतंत्र में हर किसी को अपनी बात रखने का मौका मिलना चाहिए और जब बातचीत के माध्यम से समस्याओं को हल किया जा सकता है तो पथराव, आगजनी और उपद्रव के लिए कोई जगह नहीं है।'
ठाकुर जुमे की नमाज के बाद भड़की हिंसा के संदर्भ में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि चाहे नेता हो या कोई संगठन, आग में घी नहीं डालना चाहिए क्योंकि इससे लोगों के साथ-साथ राज्य को भी नुकसान होता है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कानून एवं व्यवस्था राज्य का विषय है और इसे बनाए रखने के लिए उन्हें सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। ठाकुर ने उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था के साथ भारत दुनिया में तेजी से आगे बढ़ रहा है।
 
 
इससे पहले ठाकुर ने यहां केडी सिंह बाबू स्टेडियम में एक स्वच्छता कार्यक्रम में भाग लिया और क्षेत्र की सफाई में योगदान दिया। उन्होंने हजरतगंज से केडी सिंह बाबू स्टेडियम तक ‘फिट इंडिया रन’ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया और युवाओं में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए इसमें भाग लिया।
 
केंद्रीय मंत्री ने राज्य की राजधानी के हजरतगंज इलाके में स्थित बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण भी किया। बाद में उन्होंने केडी सिंह बाबू स्टेडियम लखनऊ में नेहरू युवा केंद्र और खेल प्राधिकरण के एक समारोह में भाग लिया।
 
ठाकुर ने खिलाड़ियों से बातचीत भी की। स्वच्छता की आवश्यकता पर जोर देते हुए ठाकुर ने इस अवसर पर कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार द्वारा शुरू किए गए स्वच्छता अभियान ने देश में बहुत बदलाव किया है और लोगों की मानसिकता को बदल दिया है।
 
ठाकुर ने कहा कि जिस समय देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, हमें भारत में खेल और फिटनेस की संस्कृति विकसित करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार खिलाड़ियों को हर तरह की सुविधा मुहैया कराने का प्रयास कर रही है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

संदीप- श्रीति राशिनकर को पुणे का महाकवि कालिदास पुरस्कार