Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

मौसम अपडेट : मानसून केरल के करीब, आज इन राज्यों में होगी भारी बारिश

webdunia
शुक्रवार, 7 जून 2019 (09:33 IST)
केरल में सुबह से ही बारिश हो रही है और अगले कुछ ही घंटों में मानसून के यहां पहुंचने की संभावना व्‍यक्त की जा रही है। केरल से इसके दिल्ली-एनसीआर तक पहुंचने में करीब 25 से 26 दिन लगते हैं। नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की उम्मीद है। असम, मेघालय, केरल और गंगीय पश्चिम बंगाल में पृथक स्थानों पर भारी वर्षा की संभावना है। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में आंधी और ओलों के साथ गिरी आकाशीय बिजली की चपेट में आने से 17 लोगों की मौत हो गई।
 
दिल्ली-एनसीआर के लोगों को राहत पाने के लिए इस साल लंबा इंतजार करना पड़ेगा। हालांकि स्थानीय कारकों के प्रभाव से बहुत बार यह जल्दी भी आ जाता है और कई बार देरी भी हो जाती है। दरअसल, दिल्ली-एनसीआर में जून के आखिरी सप्ताह तक मानसून पहुंच जाता है, लेकिन इस बार 10-15 दिन की और देरी से पहुंचेगा। इस बार मानसून सामान्य के आसपास ही रहेगा। 96 फीसदी तक बारिश हो सकती है। हालांकि इसमें पांच फीसद तक की कमी या वृद्धि होने की संभावना हमेशा बनी रहती है। मध्य प्रदेश, विदर्भ व दक्षिणी राज्यों के कुछ हिस्सों में तापमान अभी से 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक है।
 
मानसून के शुरुआती माह में भले बहुत ज्यादा बारिश न हो, लेकिन अंतिम दो माह में खूब अच्छी बारिश होने के आसार हैं। इस वर्ष मानसून की पहली वर्षा में सूखा पड़ने की आशंका 15 फीसदी और सामान्य से कम बारिश होने की आशंका 55 फीसदी है तो सामान्य मानसून रहने की संभावना 30 फीसदी है। मध्य व दक्षिण भारत के हिस्से में सामान्य से अधिक गर्मी पड़ेगी। मध्य प्रदेश, विदर्भ व दक्षिणी राज्यों के कुछ हिस्सों में तापमान अभी से 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक है।
 
मौसम विभाग के अनुसार, सिरमौर, शिमला, किन्नौर, लाहौल और स्पीति, कुल्लू और सोलन जिलों में गरज के साथ हल्की बारिश होने की संभावना है। राजस्थान के चुरू में भीषण गर्मी राजस्थान का चुरू शहर गर्मी से इन दिनों बुरी तरह तप रहा है। नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की उम्मीद है।
 
असम, मेघालय, केरल और गंगीय पश्चिम बंगाल में पृथक स्थानों पर भारी वर्षा की संभावना है। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में आंधी और ओलों के साथ गिरी आकाशीय बिजली की चपेट में आने से 17 लोगों की मौत हो गई। कासगंज, एटा और मैनपुरी में 11 लोगों की मौत हो गई। काशीपुर में 2, रामपुर, मैनाठेर, बदायूं और पीलीभीत में एक-एक लोगों की मौत हुई है। 
 
उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले में गुरुवार को आंधी-तूफान से कम से कम 4 लोगों की मौत हो गई जबकि 38 अन्य घायल हो गए। 7 गंभीर घायलों का इलाज जिला अस्पताल में और 31 घायलों का सामुदायिक स्वास्थ्‍य केंद्र में हो रहा है। समूचे उत्तर भारत में आसमान से बरसती आग के बीच गुरुवार को उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में तेज रफ्तार आंधी और बारिश ने लोगों को तपिश से राहत दी हालांकि कुछ स्थानों पर ओले गिरने से फसलों को नुकसान पहुंचा।
 
शामली, औरैया, मैनपुरी और हमीरपुर समेत राज्य के कई इलाकों में दोपहर बाद मौसम ने अंगड़ाई ली, जब तेज रफ्तार आंधी के बाद झमाझम बारिश ने तापमान में कमी ला दी। मौसम विभाग के अनुसार, अगले 24 घंटे के दौरान राज्य में मौसम शुष्क रहेगा और कई क्षेत्रों में गर्म हवा का प्रकोप जारी रहेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में आए आंधी तूफान से हुए जानमाल के नुकसान के मद्देनजर प्रभावित लोगों को राहत पहुंचाने के निर्देश दिए हैं।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

शिवराज सरकार में खरीदे गए घटिया बिजली उपकरणों की कमलनाथ सरकार कराएगी जांच