Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Weather update : कई राज्‍यों में मानसून की वापसी, भारी बारिश की चेतावनी

webdunia
रविवार, 11 अक्टूबर 2020 (09:12 IST)
नई दिल्‍ली। उत्तरी अंडमान सागर के ऊपर बने कम दबाव के क्षेत्र के और मजबूत होने एवं पूर्वी तट की ओर बढ़ने से ओडिशा, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तेलंगाना में आज और कल भारी बारिश होने की संभावना है। मौसम विभाग ने झारखंड के कई इलाकों में बारिश और वज्रपात का अलर्ट जारी किया है। इसके अलावा मध्य प्रदेश में 13 अक्टूबर से बूंदाबांदी शुरू हो सकती है।

मौसम विभाग ने झारखंड के कई इलाके में बारिश और वज्रपात का अलर्ट जारी किया है। झारखंड की राजधानी रांची सहित सूबे के कई इलाकों में सुबह से ही बादल छाए हुए हैं। प्रदेश के कुछ इलाकों में आज बारिश की संभावना बनी हुई है। उत्तरी अंडमान सागर के ऊपर बने कम दबाव के क्षेत्र के और मजबूत होने एवं पूर्वी तट की ओर बढ़ने से ओडिशा से लेकर आंध्र प्रदेश के तट तक और कर्नाटक एवं तेलंगाना में आज और भारी बारिश होने की संभावना है।

मौसम विभाग के अनुसार, आज उत्तर भारत के कुछ राज्‍यों में भारी बारिश हो सकती है। इसके अलावा बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण मध्य प्रदेश में 13 अक्टूबर से बूंदाबांदी शुरू हो सकती है। गंगीय पश्चिम बंगाल, आंतरिक ओडिशा, झारखंड, छत्तीसगढ़, केरल, तमिलनाडु के कुछ हिस्सों, महाराष्ट्र, दक्षिणी कोंकण और गोवा और पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों में बारिश देखने को मिल सकती है।

एक नया मौसमी सिस्टम बंगाल की खाड़ी में फिर से 16 अक्टूबर के आसपास विकसित हो सकता है। एक विपरीत चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण-पश्चिमी राजस्थान और इससे सटे गुजरात के ऊपर दिखाई दे रहा है। जबकि उत्तर-पश्चिम भारत के अधिकांश हिस्सों और मध्य भारत के बाकी भागों में मौसम शुष्क और गर्म बना रहेगा।
पिछले 24 घंटे के दौरान गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़, दक्षिण-पूर्वी मध्य प्रदेश, आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु और लक्षद्वीप में कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई। विदर्भ, मराठवाड़ा, तेलंगाना, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक और तमिलनाडु में भी कुछ स्थानों पर बारिश हुई। आंध्र प्रदेश और पूर्वोत्तर भारत में भी कहीं-कहीं बारिश हुई है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

19 दिन से नहीं बदले पेट्रोल के दाम, 9 दिन से डीजल भी स्थिर