Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Shardiya Navratri 2019 : नवरात्रि के 9 दिन इन 9 रंगों से करें पूजन, मां दुर्गा होंगी प्रसन्न

webdunia

WD

नवरात्रि के शुभ अवसर पर रंगबिरंगे परिधान धारण किए जाते हैं। हर दिन पूजा करने के लिए मां के स्वरूप के अनुसार कपड़ों के रंग का चयन करना  बेहद शुभ माना जाता है। रंगों का हमारे देवी-देवताओं, पर्वों और त्योहारों से विशेष जुड़ाव है। चाहें आप सलवार सूट पहनें, लहंगा, चणिया चोली या साड़ी नवरात्र पर्व में प्रत्येक दिन किस रंग के कपड़े धारण करना हैं आइए जानते हैं... 
 
1. शैलपुत्री (Shailputri)
नवरात्रि के पहले दिन माता शैलपुत्री (Shailputri) की पूजा की जाती है। इस दिन पीला रंग पहनना शुभ माना जाता है। इसीलिए नवरात्रि की शुरुआत पीले रंग के कपड़ों से करें। 
 
2. ब्रह्मचारिणी (Brahmacharini)
नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी (Brahmacharini) को पूजा जाता है। इस दिन के लिए हरा रंग होता है। इसीलिए नवरात्रि के दूसरे दिन किसी भी प्रकार का हरा रंग पहनें, लेकिन अगर गाढ़ा हरा रंग हो तो बेहतर। 
 
3. चंद्रघंटा  (Chandraghanta)
नवरात्रि के तीसरे दिन हल्का भूरा रंग पहनें। मां चंद्रघंटा  (Chandraghanta) की पूजा करते वक्त आप इस रंग का कोई भी वस्त्र पहन सकते हैं।  
 
4. कूष्माण्डा (kushmanda)
नवरात्रि के चौथे दिन संतरी रंग के कपड़े पहनें। कूष्माण्डा (kushmanda) माता का यह रंग उत्सव की रौनक को बढ़ा देता है। 
 
5. स्कंदमाता (Skandmata)
भक्तों की सारी इच्छाएं पूरी करने वाली स्कंदमाता (Skandmata) के दिन सफेद रंग पहनें। इन्हें मोक्ष के द्वार खोलने वाली माता के नाम से भी जाना जाता है। 
 
6. कात्यायनी (katyayani)
पांचवे दिन पूजी जाने कात्यायनी (katyayani) का मनपसंद रंग है लाल। इस दिन माता की पूजा करते वक्त लाल रंग पहनें। 
 
7. कालरात्रि (kalratri)
नवरात्रि के सातवें दिन मां कालरात्रि (kalratri) की पूजा जाती है। इस दिन नीला रंग पहनना शुभ माना जाता है।  
 
8. महागौरी (Mahagauri)
महागौरी की पूजा करते वक्त गुलाबी रंग पहनना शुभ माना जाता है। अष्टमी की पूजा और कन्या भोज करवाते इसी रंग को पहनें।  
 
9. सिद्धिदात्री (Siddhidatri)
नवरात्रि के आखिरी दिन पूजी जाती हैं सिद्धिदात्री (Siddhidatri), इन्हें बैंगनी रंग बेहद पसंद होता है। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Jjiutia vrat 2019 कब है : जीवित्पुत्रिका व्रत कब करें, तिथि को लेकर संशय