Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

अहोई अष्टमी के शुभ मुहूर्त : खास संयोग में होगी अहोई माता की पूजा, संतान के लिए मांगी जाएगी प्रार्थना

webdunia
अहोई अष्टमी का व्रत माताएं अपनी संतान की लंबी उम्र के लिए करती हैं। इस साल 2019 में अहोई अष्टमी के दिन काफी शुभ संयोग बन रहे हैं। जिसकी वजह से यह दिन काफी खास बन जाता है।

अहोई अष्टमी का व्रत 21 अक्टूबर 2019 यानी आज है। अहोई अष्टमी का व्रत करवा चौथ के बाद आता है। करवा चौथ पर सुहागन स्त्रियां अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं और इसके बाद महिलाएं अपनी संतान के लिए अहोई अष्टमी का व्रत रखती हैं तो आइए जानते हैं क्या है अहोई अष्टमी के शुभ संयोग....
 
अहोई अष्टमी 2019 में 21 अक्टूबर 2019 के दिन मनाई जा रही है। 
 
अहोई अष्टमी के शुभ मुहूर्त 
 
अहोई अष्टमी का पूजा मुहूर्त : शाम 5 बजकर 46 मिनट से 7 बजकर 2 मिनट तक (21 अक्टूबर 2019) 
 
पूजा की कुल अवधि 1 घंटे 16 मिनट की रहेगी। 
 
अहोई अष्टमी पर चंद्रमा के उदय होने का समय रात 11 बजकर 46 मिनट (21 अक्टूबर 2019) है। तारों के उदय होने का समय- शाम 6 बजकर 10 मिनट (21 अक्टूबर 2019) 
 
राधा कुंड में स्नान - सोमवार 21 अक्टूबर 2019 
 
अष्टमी तिथि प्रारंभ - सुबह 6 बजकर 44 मिनट से (21 अक्टूबर 2019)
 अष्टमी तिथि समाप्त- अगले दिन सुबह 5 बजकर 25 मिनट तक (22 अक्टूबर 2019)
 
अहोई अष्टमी के शुभ संयोग
 
चंद्रमा- पुष्य नक्षत्र योग, साध्य सर्वार्थ सिद्धि योग- शाम 5 बजकर 33 मिनट से अगले दिन 6 बजकर 22 मिनट तक अहोई अष्टमी के दिन चंद्रमा पुष्य नक्षत्र में रहेगा। 
 
इसके अलावा इस दिन साध्य योग और सर्वार्थ सिद्धि योग जैसे योग बन रहे हैं। जिसके कारण यह अहोई अष्टमी की पूजा का समय और भी ज्यादा खास बन रहा है। 
 
यदि इस मुहूर्त में माताएं अहोई अष्टमी की पूजा करती हैं तो न केवल उनकी संतान की उम्र लंबी होगी बल्कि उनकी संतान की सभी परेशानियां भी समाप्त हो जाएगी। इसलिए इस योग में पूजा अवश्य करें। 
 
इस दिन अभिजित मुहूर्त और अमृत काल मुहूर्त भी है इसलिए इस बार की अहोई अष्टमी का पूजा का मुहूर्त सर्वार्थ सिद्धि योग में होने के कारण पूजा के भी शुभ पल प्राप्त होंगे।
 
अहोई अष्टमी पर बनने वाले ग्रह योग
 
अहोई अष्टमी के दिन चंद्रमा कर्क राशि में रहेगा जो उसकी स्वंय की राशि है। 
 
बुध, शुक्र और सूर्य तुला राशि में, गुरु वृश्चिक राशि में ,मंगल कन्या राशि में, शनि और केतु धनु राशि में और राहु मिथुन राशि में रहेंगे। 
 
अहोई अष्टमी के दिन ग्रहों की स्थिति अतिशुभ बन रही है क्योंकि इस दिन 2 ग्रह चंद्रमा और शुक्र अपनी ही राशि में हैं और बुध और गुरु अपनी मित्र राशि में हैं। जिसकी वजह से आज का यह दिन काफी खास बन गया है। इसके अलावा इस दिन कई उत्तम योग भी बन रहे हैं। जिसमें पूजा करने से लाभ प्राप्त हो सकता है।

webdunia

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

21 अक्टूबर 2019 सोमवार, 3 राशियों के लोगों की यात्रा मनोरंजक रहेगी