Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

4 मार्च फुलेरा दूज पर क्या करें, क्या न करें

हमें फॉलो करें webdunia
Phulera Dooj 2022
 
होली से पहले भगवान कृष्ण को समर्पित पर्व फुलेरा या फुलैरा दूज का त्योहार (Festival Phulera Dooj 2022) मनाया जाता है। इस वर्ष यह पर्व 4 मार्च 2022, शुक्रवार को मनाया जा रहा है। फुलेरा दूज के दिन विधि-विधान के साथ भगवान कृष्ण जी और राधा जी की पूजा से उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है। फुलेरा का शाब्दिक अर्थ 'फूल', यह फूलों की अधिकता को दर्शाता है।

यह पर्व फाल्‍गुन माह (Phalguna month) की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है।मान्यता यह है कि इस दिन भगवान कृष्ण फूलों के साथ खेलते हैं और फुलेरा दूज की शुभ पूर्व संध्या पर होली के त्योहार में भाग लेते हैं। फुलेरा दूज एक शुभ पर्व है, जिसे उत्तर भारत के लगभग सभी क्षेत्रों में बड़े उत्साह और जोश के साथ मनाया जाता है। यह त्योहार लोगों के जीवन में खुशियां और उल्लास लाता है। 
 
यहां जानिए फुलेरा दूज पर क्या करें और क्या न करें- 
 
1. फुलेरा/ फुलैरा दूज पर भगवान श्री कृष्ण और राधा जी की पूजा की जाती है। इस दिन दोनों पर गुलाल जरूर अर्पित करें क्योंकि इस दिन से होली शुरू होती है। 
 
2. फुलेरा/ फुलैरा दूज पर राधा कृष्ण को रंग बिरंगे फूल जरूर अर्पित करें, इससे परस्पर प्यार बढ़ेगा। राधा-कृष्ण के मंदिर जाकर इस दिन दर्शन जरूर कर लें। ऐसा करना शुभ माना जाता है।  
 
3. फुलेरा/ फुलैरा दूज के दिन राधा जी को श्रृंगार की वस्तुएं जरूर अर्पित करें और उनमें से कोई चीज अपने पास संभाल कर रख लें। ऐसा करने से जल्द विवाह होगा। आप चाहें तो इस दिन बिना किसी मुहूर्त के भी विवाह कर सकते हैं। 
 
4. फुलेरा/ फुलैरा दूज पर सभी मांगलिक कार्य करें। गाय को भोजन कराने से शुभ फलों की प्राप्ति होगी और सभी दुख दूर हो जाएंगे। 
 
5. फुलेरा/ फुलैरा दूज के मौके पर भूलकर भी मांसाहार न करें। इस दिन शराब के सेवन से भी दूर रहें। 
 
6. फुलेरा/ फुलैरा दूज के दिन राधा कृष्ण को गुलाल अर्पित किया जाता है। इस गुलाल को अपने पैरों में न आने दें। इस दिन किसी की निंदा न करें। किसी कृष्ण भक्त का अपमान न करें। गाय, मयूर और छोटी बछिया को आहार दें। 
 
7. फुलेरा/ फुलैरा दूज पर किसी का भी अपमान न करें। प्रेमी का तो बिल्कुल भी नहीं, इसी तरह घर के वरिष्ठों का भी नहीं। यह अशुभ फलदायक होता है। 
 
8. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिन शादियों में किसी और दिन शुभ मुहूर्त नहीं निकलता, उनके लिए फुलैरा दूज के दिन शादी करना शुभ माना जाता है।
 
9. जिनकी कुंडली में प्रेम का अभाव हो, उन्हें इस दिन राधा और कृष्ण की पूजा करनी चाहिए।
 
10. वैवाहिक जीवन में कलह, या रिश्तों में समस्याएं हो तो उन्हें दूर करने के लिए भी इस दिन पूजा की जाती है। 

webdunia

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

4 मार्च को है फूलेरा दूज, जानिए तिथि, पूजा का मुहूर्त, विधि, कथा और महत्व