Tulsi Vivah 2019 Date : एकादशी पर कर रहे हैं तुलसी विवाह तो राशि अनुसार उपाय जरूर आजमाएं

तुलसी विवाह को हिंदू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। 8 नवंबर 2019 के शुभ दिन उत्तर भारत में घर-घर में तुलसी विवाह संपन्न किया जाएगा। इस दिन देवी तुलसी की शालीग्राम देवता से शादी करवाई जाती है। इस दिन भगवान विष्णु अपनी चार महीने की नींद पूरी करके उठते हैं और इसी दिन से सारे शुभ काम शुरू हो जाते हैं। तुलसी विवाह को कन्यादान के बराबर माना जाता है। अगर घर में कर रहे हैं तुलसी विवाह तो राशि अनुसार अवश्य करें उपाय...  
 
मेष राशि : तुलसी विवाह के दिन मेष राशि के जातकों को माता तुलसी और शालिग्राम के विवाह के समय लाल चुनरी स्वंय अपने हाथों उनके ऊपर डालनी चाहिए। 
 
वृषभ राशि- वृष राशि के जातकों को तुलसी विवाह पर मां तुलसी को इत्र अर्पित करना चाहिए। यदि इस राशि के जातक ऐसा करते हैं तो इन्हें जीवन में कभी धन की कोई कमी नहीं होगी।  
 
मिथुन राशि - मिथुन राशि के जातकों को मां तुलसी को हरे रंग के वस्त्र और हरे रंग की चूड़ियां अर्पित करनी चाहिए। 
 
कर्क राशि - तुलसी विवाह के दिन कर्क राशि के जातकों को शाम के समय तुलसी के नीचे घी का दीपक जलाना चाहिए। 
 
सिंह राशि- तुलसी विवाह के दिन सिंह राशि के जातकों को माता तुलसी के पौधे पर लाल पुष्प अवश्य अर्पित करने चाहिए। 
 
कन्या राशि- तुलसी विवाह के दिन कन्या राशि के जातकों को तुलसी का पौधा मंदिर में दान करना चाहिए। 
 
तुला राशि- तुलसी विवाह के दिन तुला राशि के जातकों को माता तुलसी को सफेद रंग की मिठाई का भोग लगाना चाहिए। 
 
वृश्चिक राशि- तुलसी विवाह के दिन वृश्चिक राशि के जातकों तुलसी विवाह के समय स्वंय अपने हाथों से माता तुलसी को श्रृंगार की सभी वस्तुएं अर्पित करनी चाहिए। 
 
धनु राशि- तुलसी और शालिग्राम का विवाह कराते समय माता तुलसी को हल्दी अवश्य लगाएं। 
 
मकर राशि- मकर राशि के जातकों को तुलसी विवाह के दिन माता तुलसी का कन्यादान अपने हाथों से करना चाहिए। 
 
कुंभ राशि- कुंभ राशि के जातकों को तुलसी विवाह के दिन तुलसी का पौधा स्वंय अपने हाथ से किसी मंदिर में लगाना चाहिए।
 
मीन राशि- तुलसी विवाह के दिन मीन राशि के जातक तुलसी का पौधा घर के आंगन में लगाते हैं तो घर से सभी प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा समाप्त हो जाएगी।
एकादशी तिथि प्रारंभ : 7 नवंबर 2019 को 0 9:55 बजे से 
 
एकादशी तिथि समाप्त : 8 नवंबर 2019 को रात्रि 12:24 बजे
9 नवंबर को व्रत पारण का समय : प्रात: 06:39 से 08:50 तक
 
पारण तिथि के दिन द्वादशी समाप्त होने का समय : दोपहर 02:39
तुलसी विवाह का शुभ मुहूर्त 8 नवंबर को शाम 7:55 से रात 10 बजे तक रहेगा।
द्वादशी तिथि प्रारंभ- दोपहर 12 बजकर 24 मिनट से (8 नवंबर 2019)
द्वादशी तिथि अंत- दोपहर 2 बजकर 39 मिनट से (9 नवंबर 2019)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख तुलसी विवाह कब है : देवउठनी एकादशी पर देवता को जागते ही कर लीजिए प्रसन्न, इस मुहूर्त में करें पूजा