साइरस मिस्त्री : प्रोफाइल

वर्ष दिसंबर 2012 में टाटा समूह के चेयरमैन का पद छोड़ने वाले रतन टाटा ने कहा था कि उनके उत्तराधिकारी साइरस मिस्त्री के भीतर समूह का नेतृत्व करने की क्षमता और काबिलियत है। ...लेकिन 24 अक्टूबर 2016 को उन्हीं मिस्त्री को चेयरमैन पद से हटा दिया गया और एक बार फिर रतन को टाटा समूह का अंतरिम अध्यक्ष बना दिया गया। चार साल के भीतर समूह के नए चेयरमैन की खोज की जाएगी।
मिस्त्री को नवंबर 2011 में टाटा समूह का डिप्टी चेयरमैन नियुक्त किया था और दिसंबर 2012 मेंवे समूह के मुखिया बन गए। मिस्त्री को क्यों हटाया गया, इसके अभी आधिकारिक कारण सामने नहीं आए हैं, लेकिन माना जा रहा है कि वे टाटा समूह की उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे। ग्रुप को उम्मीदों के अनुरूप ग्रोथ नहीं मिल पाई। संभवत: यही सबसे बड़ा कारण माना जा रहा है साइरस को 'टाटा' कहने का। 
 
तब रतन टाटा ने कहा था : टाटा के कर्मचारियों को अपने विदाई पत्र में रतन टाटा ने कहा था कि वे समूह के मूल्यों तथा नैतिक मानकों पर खरा उतरें। इस संदेश में उन्होंने कहा कि कारखानों में जाना और इतने सारे सहयोगियों से शुभकामनाएं, विदाई लेना बहुत भावनात्मक अनुभव है। उन्होंने कहा कि इसकी यादें हमेशा उनके साथ रहेंगी। यह कहते समय शायद टाटा को अनुमान नहीं रहा होगा कि चार साल के भीतर एक बार फिर यह जिम्मेदारी फिर उनके कंधों पर होगी। 
 
कौन हैं साइरस मिस्त्री : साइरस मिस्त्री शापूरजी पलोनजी परिवार से हैं। शापूरजी पलोनजी समूह की होल्डिंग कंपनी टाटा संस में सबसे बड़ी निजी शेयरधारक है। मिस्त्री को 2006 में टाटा संस के निदेशक मंडल में नियुक्त किया गया था। समूह की कई और कंपनियों में भी वे गैर कार्यकारी पदों पर हैं। इस समय टाटा संस तथा टाटा एलेक्सी (इंडिया) के निदेशक मिस्त्री उस पांच सदस्यीय चयन समिति में भी थे, जो रतन टाटा का उत्तराधिकारी ढूंढने के लिए बनाई गई।
 
मिस्त्री का जन्म चार जुलाई 1968 को हुआ। उनकी शुरुआती शिक्षा मुंबई में कैथेड्रल एवं एंड जॉन कॉनन स्कूल में हुई। उन्होंने इंपीरियल कॉलेज लंदन से सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। उनके पास लंदन बिजनेस स्कूल से मास्टर डिग्री (प्रबंधन) है और वे इंस्टीट्यूशन ऑफ सिविल इंजीनियर्स के फेलो हैं।
 
साइरस मिस्त्री पलोनजी मिस्त्री, एक शक्तिशाली उद्योगपति और पैट्सी पेरिन दुबाश के सबसे छोटे बेटे हैं। मिस्त्री ने प्रसिद्ध वकील इकबाल छागला की बेटी और प्रसिद्ध विधिवेत्ता एमसी छागला की पोती रोहिका छागला से शादी की। मिस्त्री आयरिश नागरिक और भारत के एक स्थाई निवासी हैं। 
 
मिस्त्री को 1991 के बाद शापूरजी पलोनजी ग्रुप को नई ऊंचाई पर ले जाने का श्रेय जाता है। लगभग 23000 कर्मचारियों वाले इस समूह का परिचालन भारत के साथ-साथ अफ्रीका व पश्चिम एशिया में है।
 
अच्छे खासे गोल्फर मिस्त्री कंस्ट्रक्शन फेडरेशन ऑफ इंडिया के संस्थापक सदस्य हैं। वे ब्रीचकेंडी हास्पिटल ट्रस्ट के ट्रस्टी भी हैं।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख जानिए क्या हुआ सपा की बैठक में