जावड़ेकर ने कांग्रेस को बहस के लिए ललकारा, वसुंधरा के नेतृत्व में लड़ेंगे राजस्थान का रण

मंगलवार, 23 अक्टूबर 2018 (19:32 IST)
जयपुर। भारतीय जनता पार्टी ने मंगलवार को कहा कि वह राजस्थान का आगामी विधानसभा चुनाव वसुंधरा राजे के ही नेतृत्व में लड़ेगी और इस बार पार्टी 'भाजपा फिर से' के नारे के साथ चुनावी मैदान में उतरेगी। भाजपा ने इसके साथ ही मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस को विकास के मुद्दे पर बहस के लिए ललकारते हुए विश्वास जताया है कि प्रदेश के मतदाता एक बार कांग्रेस-एक बार भाजपा की परिपाटी बंद करके लगातार भाजपा को वरीयता देंगे।


केंद्रीय मंत्री व भाजपा के प्रदेश चुनाव प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर ने यहां भाजपा के नए मीडिया केंद्र में कहा, हम वसुंधरा राजे जी, जो यशस्वी मुख्यमंत्री रही हैं, जिन्होंने विकास के नए आयाम छुए हैं, उनके नेतृत्व में चुनाव लड़ रहे हैं। हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष इस बारे में स्पष्ट घोषणा कर चुके हैं, इसलिए हमारे यहां इस बारे में कोई संशय नहीं है।

जावड़ेकर ने कहा, राजस्थान के चुनाव मैदान में विश्वास के साथ उतरे हैं। फिर ‘एक बार भाजपा सरकार’ कहकर हम लोगों के पास जा रहे हैं। ‘भाजपा फिर से’, ऐसे ही नारा लेकर हम लोगों के पास जाएंगे और उसका कारण भी बताएंगे। राज्य में दो दशकों से एक बार कांग्रेस एक बार भाजपा की सरकार बनने की परिपाटी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, अब यह बंद होगा, अब फिर से भाजपा, फिर एक बार भाजपा सरकार।

उन्होंने कहा कि देश की राजनीति में बदलाव का यह चिन्ह इससे पहले उत्तर प्रदेश, गुजरात, तमिलनाडु में देखा जा चुका है। जावड़ेकर ने कहा कि 2014 में जब मोदी की सरकार बनी उसके बाद राज्यों में भाजपा की सरकारों की संख्या छह से 19 हो गई है, जबकि कांग्रेस की सरकारों की संख्या घटकर 16 से चार रह गई है क्योंकि जनता अब वोट बैंक की राजनीति को नकारने लगी है।

उन्होंने कहा, अब वोट बैंक की, एक ही परिवार की राजनीति नहीं चलेगी। अब गरीब भी आकांक्षी है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गरीब अपने में से एक मानते हैं। उन्होंने कहा, कांग्रेस झुनझुने दिखाकर जो राजनीति करती थी, वह अब खत्म है, इसलिए राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी अपने दम पर पूर्ण बहुमत के साथ फिर सत्ता में आएगी। उन्होंने कहा कि पार्टी विकास को चुनावी मुद्दा बनाएगी।

उन्होंने कहा कि पार्टी विकास के मुद्दे के साथ चुनाव मैदान में है, जबकि कांग्रेस मुद्दा विहीन है। उन्होंने कहा, इसलिए हम चैलेंज देते हैं कांग्रेस को, विकास ही हमारा मुद्दा है, विकास पर बहस करो। 2008 से 2013 तक राज्य व केंद्र में आपकी सरकार थी, 2014 से 2018 में हमारी यहां (राज्य में) भी सत्ता है और दिल्ली में भी सत्ता है। आओ तुलना करें। हम चुनौती देते हैं, करो विकास पर चर्चा, जाने दो जनता के सामने, जनता भी सब देखेगी कि कौन कितना खरा है।

टिकट वितरण संबंधी एक सवाल पर जावड़ेकर ने कहा, जिसमें जीतने की ज्यादा संभावना है, उसे ही टिकट मिलेगा। कांग्रेस पर मुद्दाविहीन व नेतृत्वविहीन होने का आरोप लगाते हुए जावड़ेकर ने कहा कि पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव में अपने ‘मुख्यमंत्री के चेहरे’ की भी घोषणा नहीं कर पा रही है। भाजपा व कांग्रेस की तुलना करते हुए उन्होंने कहा, दोनों पार्टियों के चरित्र में फर्क है। कांग्रेस एक परिवार की पार्टी है जबकि भारतीय जनता पार्टी पूरा एक परिवार है। (भाषा)
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख उप्र के पूर्व मंत्री शिवपाल की पार्टी का हुआ पंजीयन, मिला नया नाम...