घर पर बनाएँ रंगबिरंगी राखियाँ

WDWD
राखी का त्योहार नजदीक आते ही बाजारों की चहल पहल बढ़ जाती हैं। राखी से सजे बाजारों में उमड़ी भीड़ देखकर हर किसी का मन राखी खरीदने को ललचाता रहता है। लेकिन जरूरी नहीं कि आप राखी बाजार से ही खरीदें। आपकी थोड़ी-सी मेहनत और थोड़ी-सी सृजनात्मकता से आप घर पर ही कई प्रकार की सुंदर राखियाँ बना सकती हैं। ये राखियाँ खूबसूरत तो होंगी ही साथ ही अपने आसपास के लोगों से मिलेंगी आपको खूब प्रशंसा।

आइए सीखते नए प्रकार की राखी बनाने के गुर....!

राखी रेशम की
सामग्री :
रेशमी डोरियाँ, जरी धागा, पतला स्पंज, सितारे, मोती, रंगीन कागज, गोद अथवा फेविकोल।

बनाने की विधि :
रेशम की डोरी को पहले चोटी की तरह गूँथ लीजिए। इसके दोनों सिरों को बंद करने के लिए जरी का धागा इस पर सफाई से लपेट दीजिए। आपकी राखी का बेस तैयार है।

इस बेस पर स्पंज की पतली परत चिपकाएँ। स्पंज को उसी आकार में काटें जिस आकार में जड़ाऊ सितारे चिपकाना चाहती हैं। इसके ऊपर गोंद या फेवीकोल की सहायता से रंग-बिरंगा कागज चिपकाएँ। ऊपर से मनचाहे सितारे या मोती चिपका दें। लीजिए तैयार है रेशम की राखी। आपके प्यारे भाई के कलाई पर यह खूब सजेगी।


मोती-चावल की राखी
सामग्री :
कुछेक चावल के दाने, मोती जड़े नग, अलग-अलग कलर के कपड़े के टुकड़े, गोंद या लाई अथवा फेविकोल, रेशमी धागा।

वि‍धि :
सर्वप्रथम चावल के दानों को चार-चार की फूल वाली‍ डिजाइन में रखकर लाई या फेविकोल की सहायता से आपस में चिपका लें। उसके ऊपर मोती जड़ा नग भी चिपकाएँ। अब कपड़े को फूल के आकार में काटकर उस पर तैयार चावल की डिजाइन वाली राखी चिपका दें। कपड़े के नीचे फूँदे वाला रेशमी धागा फेविकोल की सहायता से चिपका दें। तैयार चावल की रा‍खी को अपने भाई के कलाई पर सजाएँ।

फैंसी जरी राख

सामग्री :
जरी, गोटा, कलरफुल रेशमी धागे, मोती जड़े नग, तरह-तरह के बारीक व बड़े मोती।

विधि :
सर्वप्रथम ऊपर दी गई सारी सामग्री जुटा लें। अब रेशमी धागे में सुई की सहायता से बड़े मोती को पिरोकर उसके आसपास जरी लपेटकर दोनों तरफ छोटे मोती लगा कर गठान बाँध दें। तैयार फैंसी जरीवाली राखी से अपने ‍प्यारे भाई के कलाई को सजाएँ।

सिल्वर राख

सामग्री :
एल्युमिनियम अथवा पीतल से निर्मित फूल, रेशमी धागा ।

विधि :
घर पर राखी बनाने के लिए बाजार में तैयार एल्युमिनियम और पीतल के साँचों में ढ़ले फूल मिलते हैं जिन पर चाँदी का पानी चढ़ा होता है। उन्हें रेशमी धागे की सहायता से गूँथ लें। तैयार सिल्वर राखी को दूर परदेस में बैठे अपने भाई के हाथों की कलाई पर सजाएँ।

क्ले की राखी
सामग्री :
रेशमी डोरी, अलग-अलग रंगों के क्ले, जरी धागा, पतला स्पंज, रंगीन कागज, गोंद अथवा फेविकोल।

विधि :
रेशमी धागों को अच्छी तरह से मरोड़ लें। फिर धागे के दोनों सिरे को मनचाहे रंग के रेशम या जरी से बाँध दीजिए। अब क्ले की सहायता से मनचाहे आकार के मोरपंख, सुंदर से फूल बनाएँ। उनको सुखाकर राखी के बेस पर पहले स्पंज व रंगीन कागज चिपकाकर लगा दें। फिर क्ले से बनाए फूल चिपका दीजिए। यह सुंदर सी राखी आपके कलाई पर खूब ँचेगी।
webdunia-ad

वेबदुनिया पर पढ़ें