Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

ईसी और एसी के चुनाव में आम आदमी पार्टी के शिक्षक संगठन ने उतारे अपने उम्मीदवार

हमें फॉलो करें webdunia
बुधवार, 10 फ़रवरी 2021 (20:03 IST)
नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी के शिक्षक संगठन ‘दिल्ली टीचर्स एसोसिएशन’ (डीटीए) ने पहली बार दिल्ली यूनिवर्सिटी की कार्यकारी परिषद (ईसी) और विद्वत परिषद (एसी) के चुनाव में अपना उम्मीदवार उतारा है। ‘आप’ के राज्यसभा सांसद सुशील गुप्ता ने कहा कि आप का संगठन ‘दिल्ली टीचर्स एसोसिएशन’ दिल्ली विश्वविद्यालय में कार्यकारी परिषद और विद्वत परिषद का चुनाव मजबूती के साथ लड़ेगा।

केजरीवाल सरकार ने जिस तरह से सरकारी स्कूलों के अंदर उल्लेखनीय सुधार किया है, आम आदमी पार्टी उसी तरह से दिल्ली यूनिवर्सिटी में भी गुणात्मक सुधार करना चाहती है।

डीटीए के सचिव डॉ. मनोज कुमार सिंह ने कहा कि आम आदमी पार्टी उच्च शिक्षा में सकारात्मक हस्तक्षेप करना चाहती है और इसलिए यह चुनाव लड़ने का फैसला किया है।

डीटीए की अध्यक्ष आशा रानी पहले ही ईसी का चुनाव जीत चुकी हैं। डीटीए के प्रभारी प्रो. हंसराज सुमन ने कहा कि दिल्ली विश्वविद्यालय में ईसी और एसी का चुनाव जीतने के बाद हम सबसे पहले अपने एजेंडे को लागू कराने का पुरजोर प्रयास करेंगे।
webdunia

आप ने दिल्ली विश्वविद्यालय के विद्वत परिषद चुनाव के लिए डॉ. सुनील कुमार और कार्यकारी परिषद के लिए नरेंद्र कुमार पांडे को प्रत्याशी बनाया है। डॉ. मनोज कुमार सिंह ने कहा कि आप का शिक्षा को लेकर जो विजन है, उसकी शुरुआत हो गई है।

सुप्रसिद्ध शिक्षाविद् और ‘आप’ के राज्यसभा सांसद सुशील गुप्ता ने उच्च शिक्षा के मुद्दे को संसद में भी उठाया है और विभिन्न मोर्चों पर भी लगातार उठाते रहे हैं। प्रोफेसर राजकुमार भी पिछली बार चुनाव लड़े थे और मात्र 5 मतों से हम लोग नहीं जीत पाए थे, लेकिन इस बार हमारी शुरुआत बहुत अच्छी है।

दिल्ली विश्वविद्यालय में ईसी के 2 उम्मीदवार होते हैं और उसमें एक पद हमारे प्रत्याशी नरेंद्र पांडे चुनाव लड़ रहे हैं। एसी में हमारे प्रत्याशी डॉ. सुनील कुमार चुनाव लड़ रहे हैं। सुनील कुमार भगत सिंह कॉलेज सांध्य में कॉमर्स के प्रोफेसर हैं। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

कांग्रेस सत्ता में आई तो रद्द कर देंगे कृषि कानून : प्रियंका गांधी