मैं अमरसिंह को राखी भी बांध दूं तब भी लोग बातें बनाना बंद नहीं करेंगे : जयाप्रदा

शुक्रवार, 1 फ़रवरी 2019 (19:55 IST)
मुंबई। अदाकारा से नेता बनीं जयाप्रदा ने कहा है कि वे अमरसिंह को अपना 'गॉडफादर' मानती हैं लेकिन यदि वे उन्हें राखी भी बांध दें, तब भी लोग उनके बारे में बातें बनाना बंद नहीं करेंगे। साथ ही, जयाप्रदा ने समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और रामपुर से विधायक आजम खान पर गंभीर आरोप लगाए और दावा किया कि खान ने उन पर तेजाब हमला कराने की कोशिश की थी।
 
 
उत्तरप्रदेश के रामपुर से लोकसभा की पूर्व सदस्य ने सपा से निष्कासित किए जाने के बाद अमरसिंह के साथ राष्ट्रीय लोक मंच बनाया था। जयाप्रदा ने अमरसिंह के साथ अपने संबंधों के बारे में नकारात्मक बातें किए जाने पर कहा कि मेरे जीवन में कई लोगों ने मेरी मदद की है और अमरसिंहजी मेरे 'गॉडफादर' हैं। उन्होंने यहां क्वीन्सलाइन लिटरेचर फेस्टिवल में लेखक रामकमल से बात करते हुए यह कहा।
 
जयाप्रदा (56) ने दावा किया कि जिस परिस्थिति में मैं एक महिला के तौर पर आजम खान के साथ चुनाव लड़ रही थी, उस समय मुझ पर तेजाब हमला और मेरी जान को खतरा था। जब कभी मैं घर से बाहर जाती तो मैं अपनी मां को यह भी नहीं बता सकती थी कि मैं जिंदा लौटूंगी या नहीं? उनका समर्थन करने को कोई नेता सामने नहीं आया।
 
जयाप्रदा ने कहा कि मुलायमसिंहजी ने मुझे एक बार भी फोन नहीं किया। जब उनकी तस्वीरों में विद्वेषपूर्ण बदलाव कर उसे सोशल मीडिया पर वायरल किया गया, तब उन्होंने आत्महत्या करने तक की सोची थी। जयाप्रदा ने कहा कि अमरसिंह डायलिसिस पर थे और मेरी तस्वीरों में विद्वेषपूर्ण बदलाव कर उसे क्षेत्र में फैलाया जा रहा था। मैं रो रही थी और कह रही थी कि अब मुझे और नहीं जीना है, मैं आत्महत्या करना चाहती हूं। मैं सदमे में थी और किसी ने मेरा समर्थन नहीं किया।
 
उन्होंने बताया कि डायलिसिस से आने पर सिर्फ अमरसिंहजी मेरे साथ खड़े हुए, मेरा समर्थन किया। आप उनके बारे में क्या सोचते हैं? 'गॉडफादर' या फिर कोई और? यदि मैं उन्हें राखी भी बांध दूं, तब क्या लोग बातें करना बंद कर देंगे? लोग क्या कहते हैं, मुझे इसकी परवाह नहीं। उन्होंने कहा कि पुरुष प्रधान इस व्यवस्था में किसी महिला के लिए नेता बनना असली चुनौती है।
 
जयाप्रदा ने कहा कि एक पार्टी से सांसद रहने के दौरान भी मुझे नहीं बख्शा गया। आजम खान ने मुझे प्रताड़ित किया। उन्होंने मुझ पर तेजाब हमला कराने की कोशिश की। मुझे नहीं पता था कि मैं अगले दिन जिंदा भी रहूंगी या नहीं? उन्होंने कहा कि 'मणिकर्णिका' फिल्म में वे जो कुछ भी दिखा रहे हैं, मैं उस जैसा महसूस कर रही हूं। एक महिला दुर्गा का अवतार भी ले सकती है। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख Budget 2019 : रुपया आया-रुपया गया