Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

बारिश से बेहाल नैनीताल, पर्यटक हुए परेशान, भूस्खलन से रास्ते हुए जाम

हमें फॉलो करें webdunia

एन. पांडेय

रविवार, 31 जुलाई 2022 (22:27 IST)
नैनीताल। रविवार को बारिश ने नगर का जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया। रविवार को सुबह 11 बजे से नगर में लगातार 2 घंटे तक बारिश हुई। कुछ देर बारिश के रुकने के बाद शाम को फिर से मूसलाधार बारिश शुरू हो गई। इससे यहां पहुंचे सैलानियों को भी काफी परेशानी उठानी पड़ी। लगातार हो रही बारिश से झील का जलस्तर भी लगातार बढ़ रहा है।
webdunia

बारिश के चलते माल रोड में सीवर भी ओवरफ्लो बहने लगा। इससे झील भी प्रदूषित हो रही थी। लगातार हो रही बारिश से हल्द्वानी मार्ग में बल्दियाखान के पास पत्थर गिरे हैं जिससे वाहन चालकों को आने जाने में काफी परेशानी हो रही है वहीं देवीधुरा मार्ग में भी लगातार भूस्खलन हो रहा है। इससे लोगों को काफी परेशानी हो रही है। इसके अतिरिक्त आने क्षेत्रों में बारिश से लगातार पेड़ भी गिर रहे हैं।

हो सके तो बरसात में रात्रि के समय सफर न करें। रात्रि के समय बरसात में पेड़ गिरने की घटनाएं लगातार बढ़ रही है तथा पहाड़ियों से बड़े-बड़े बोल्डर भी गिर रहे हैं इसलिए रात्रि के वक्त वाहन कतई न चलाएं। नैनीताल नगर में भी पालिका सहित अन्य सरकारी एजेंसियों की लापरवाही उजागर हुई है। बीती रात से रविवार की शाम तक रुक-रुककर हो रही वर्षा के कारण यहां जगह-जगह नालियां चोक होने का सिलसिला जारी है। कई सड़के उधड़ गई। सीवरों के चैम्बरों से पानी बाहर आने से गंदा पानी झील में समा गया।

विभिन्न नालो से झील में गई गंदगी विभागों की सफाई व्यवस्था की पोल खोल रही है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार यहां अगले 24 घंटे में तेज वर्षा हो सकती है। इधर वर्षा शुरू होने के बाद अब सैलानियों की वापसी भी होने लगी है। पर्यटकों के साथ ही पर्यटक वाहनों की कमी से रविवार को नगर की सड़कों में जाम भी कम लगा। दूसरी ओर अन्य दिनों की तुलना में नगर के दर्शनीय स्थलों में भी पर्यटकों की आवक कम दिखाई दी।
webdunia
शुक्रवार को नैनीताल को भवाली से जोड़ने वाली सड़क के बुरी तरह से क्षतिग्रस्त होने के बाद रविवार से ही दोबारा सड़क निर्माण का कार्य शुरू करवा दिया गया है। शुक्रवार को हुए भूस्खलन से मार्ग बुरी तरह से बाधित हो गया था। इस बिजी मार्ग के इस तरह टूटने से इसमें सफर करने वाले सैकड़ों लोगों के मन में इसके ठीक होने को लेकर संशय पैदा हो गया था।

इस मार्ग का विकल्प ज्योलीकोट के पास एक नंबर और वीरभट्टी से गेठिया और भूमियाधार होते हुए भवाली पहुंचने का था। इस मार्ग से लोगों को बहुत लंबा रास्ता तय करके अपने गंतव्यों तक पहुंचना पड रहा था। लोनिवि ने मामले की गंभीरता को समझते हुए सड़क में खड़े पहाड़ को पोकलैंड मशीन लगाकर कटिंग शुरू कर दी है। विभाग का मानना है वह जल्द ही दोपहिया और हल्के चार पहिया वाहनों के लिए मार्ग को खोल देंगे।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

संजय राउत के घर से मिले साढ़े 11 लाख रुपए, ED ने छापेमारी के दौरान किया जब्त, वकील का बड़ा दावा- हिरासत में नहीं लिया