Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

LOC पर घुसपैठ के प्रयास नाकाम, हथियारों से लैस तीन पाकिस्तानी घुसपैठिए ढेर

webdunia

सुरेश डुग्गर

मंगलवार, 13 नवंबर 2018 (21:44 IST)
जम्मू। सतर्क भारतीय सैनिकों ने जम्मू सीमा के अखनूर सेक्टर और कुपवाड़ा में एलओसी पर दो घुसपैठ के प्रयासों को नाकाम बनाते हुए तीन घुसपैठिए आतंकियों को मार गिराया है। उनके कब्जे से भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद भी बरामद किया गया है।

मंगलवार को अखनूर में पलांवाला के पास अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्वचालित हथियारों से लैस आतंकियों के एक दल ने घुसपैठ का प्रयास किया। लेकिन वहां तैनात जवानों ने उनके मंसूबे को नाकाम बनाते हुए एक आतंकी को मार गिराते हुए हथियारों का एक बड़ा जखीरा भी बरामद किया है।

फिलहाल, उसके अन्य साथियों को पकड़ने के लिए पूरे इलाके में सघन तलाशी अभियान को जारी रखा गया है। मारे गए आतंकी के पास से मिले हथियारों के जखीरे व दस्तावेजों के आधार पर सुरक्षा एजेसियों का दावा है कि यह लोग अखनूर सेक्टर के रास्ते जम्मू संभाग में दाखिल होकर बड़े पैमाने पर हिंसा फैलाने की साजिश को अंजाम दे पंचायत चुनावों की प्रक्रिया में खलल डालने आ रहे थे।

इस बीच, जम्मू कश्मीर में कुपवाड़ा के केरन सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश कर रहे दो आतंकी मारे गए, सुरक्षाबलों का ऑपरेशन जारी है। हालांकि अभी तक मारे गए आतंकियों की पहचान नहीं हो पाई है।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा किए जा रहे जंगबंदी के उल्लंघन को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय सीमा और एलओसी पर चौकसी को बढ़ाते हुए घुसपैठ की दृष्टि से संवेदनशील कहेजाने वाले इलाकों में विशेष नाके भी लगाए गए हैं। उन्होंने बताया कि बीते कुछ दिनों से घुसपैठ से संबधी खुफिया सूचनाएं भी प्राप्त हो रही थी।

गौरतलब है कि पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा बीते कुछ दिनों से लगातार प पलांवाला से लेकर पुंछ तक भारतीय ठिकानों पर नियमित अंतराल पर गोलीबारी की जा रही है, जिसमें अभी तक चार जवान शहीद हो चुके हैं व दो अन्य जख्मी हुए हैं।

जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान को भी तीन से चार सैनिकों का जानी नुकसान उठाना पड़ा है। लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने बताया कि आज दोपहर को करीब पौने दो बजे अखनूर सेक्टर के अंतर्गत अंतरराष्ट्रीय सीमा पर एक जगह नाके पर बैठे जवानों ने स्वचालित हथियारों से लैस आतंकियों के एक दल को भारतीय सीमा में दाखिल होते देखा।

जवानों ने उसी समय उन्हें ललकारते हुए आत्मसमर्पण के लिए कहा। घुसपैठियों ने जवानों की ललकार सुनते ही फायरिंग कर दी और वापस भागने लगे। लेकिन जवानों ने तुरंत जवाबी फायर किया और उसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। करीब आधा घंटे बाद आतंकियों की तरफ से गोलियों की बौछार शांत हो गई।

इसके बाद जवानों ने मुठभेड़स्थल की तलाशी ली तो उन्हें वहां गोलियों से छलनी एक आतंकी का शव और हथियारों का एक बड़ा जखीरा मिला। बरामद हथियारों में एक एसाल्ट राइफल, दो एके मैगजीन, 234 कारतूस, 15 हथगोले, 10 मैगजीन और 60 कारतूसों समेत पांच पिस्तौल व आईईडी के 12 फयूज शामिल हैं।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि मारे गए आतंकी की तत्काल पहचान नहीं हो पाई है। उसके अन्य साथियों के हालांकि वापस पाकिस्तान की तरफ भागजाने की संभावना है, लेकिन उनके अंतरराष्ट्रीय सीमा पर ही उगी घास व झाड़ियों में छिपे होने की आशंका को भी नहीं नकारा जा सकता। इसलिए पूरे इलाके में एहतियातन तलाशी अभियान को जारी रखा गया है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

साइबर हमले, अस्थिर मौसम भारत के लिए बड़ा खतरा