इंदौर में होगा 26वीं मालवा ‘कबीर यात्रा महोत्सव’ का समापन

गुरुवार, 20 फ़रवरी 2020 (17:03 IST)
पिछले 25 साल से आयोजित होने वाले कबीर यात्रा महात्‍सव की शुरुआत बुधवार 19 फरवरी को लुनियाखेड़ी से हुई।

संत कबीर के निर्गुण को आमजन तक पहुंचाने के लिए 'मालवा कबीर यात्रा' का आयोजन किया जाता है। इस यात्रा में देश-विदेश के कलाकार सूफी गायन की प्रस्‍तुति देते हैं। पद्मश्री और कबीर भजन गायक प्रहलाद सिंह टिपानिया के मार्गदर्शन में कबीर स्मारक, लूनियाखेड़ी से प्रारंभ होकर पचौर, देवास, शाजापुर,आगर, उज्जैन होते हुए 23 फ़रवरी को इंदौर पहुंचेगी। इंदौर में इस यात्रा का समापन होगा।

देश के प्रसिद्ध 17 कलाकार देंगे प्रस्तुति
इस यात्रा में देश के प्रसिद्ध कलाकार पद्मश्री प्रह्लादसिंह टिपानिया, कच्छ के लोकगायक  मोरालाला मारवाड़, बेंगलौर से बिंदुमालिनी नारायणस्वामी, वेदान्त भारद्वाज और वासु दीक्षित, बाउल गायक लक्ष्मणदास बाउल और निताई चंद्रदास, दास्‍तानगो हिमांशु बाजपेयी, क़व्वाल मीर बासु बरकत ख़ान, देवनारायण सारोलिया, मंजिल मिस्टिक, राधिका सूद नायक, शबनम विरमानी, श्रुति विश्वनाथ, वेद मिश्रा, फ़क़ीर-खेता ख़ान अलग-अलग स्‍थानों पर अपनी प्रस्तुति देंगे।

इंदौर के तक्षशिला ऑडिटोरियम (डीएवीवी) में यात्रा का समापन होगा। इस मौके पर  महात्मा गांधी की 150वीं जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में शाम 4 बजे ‘कबीर एवं गांधी की प्रासंगिकता’ विषय पर परिचर्चा होगी। इसमें मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा, युवा कल्याण एवं खेलमंत्री जीतू पटवारी होंगे। मुख्य वक्ता अमेरिका की प्रोफेसर लिंडा हेस, अनिल त्रिवेदी और डॉ. रामनारायण श्याग होंगे। इसके बाद हिमांशु वाजपेयी, वेदान्त भारद्वाज, प्रहलादसिंह टिपानिया, मंजिल मिस्टिक, वेदान्त भारद्वाज, बिंदुमालिनी, लक्ष्मणदास बाउल और फ़कीरा व खेता खान की प्रस्‍तुति होगी।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख जनरल नरवणे ने कहा- सेना लिंग, धर्म, जाति के आधार पर नहीं करती भेदभाव