मध्यप्रदेश को नया ठिकाना बनाने की कोशिश में नक्सली, बालाघाट में मुठभेड़ में 2 नक्सली ढेर

भोपाल। नक्सली अब मध्यप्रदेश को अपना ठिकाना बनाने की कोशिश कर रहे हैं। सूबे में एक बार फिर नक्सल गतिविधियां धीमे-धीमे बढ़ती जा रही हैं। मंगलवार को उत्तर प्रदेश एटीएस ने जहां नक्सली गतिविधियों में शामिल होने के शक में भोपाल से एक संदिग्ध दंपति को गिरफ्तार किया, वहीं बुधवार को बालाघाट में पुलिस ने मुठभेड़ में 2 खूंखार नक्सलियों को मार गिराया।
 
डीजीपी वीके सिंह ने भोपाल में मीडिया से बात करते हुए मुठभेड़ की पुष्टि करते हुए कहा कि इसमें 2 इनामी नक्सलियों को पुलिस टीम ने मार गिराया। मृतक नक्सलियों की पहचान अशोक और महिला नक्सली की पहचान नेंदे के रूप में हुई है। मारे गए नक्सली एरिया कमांडर थे, जिन पर महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश मिलाकर 14 लाख रुपए का इनाम था।
मध्यप्रदेश की सीमा पर काफी लंबे समय बाद पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में किसी नक्सली को मार गिराया गया है। मुठभेड़ के बाद 10 नक्सली मौके से फरार होने में सफल रहे। डीजीपी वीके सिंह ने माना कि नक्सलियों का मूवमेंट मध्यप्रदेश में काफी बढ़ रहा है और पुलिस को अब तक बालाघाट, मंडला में नक्सली मूवमेंट की सूचना मिल रही थी लेकिन अब नक्सली डिंडौरी और अमरकंटक की ओर बढ़ने की कोशिश कर रहे हैं और अपनी सक्रियता बढ़ा रहे हैं, लेकिन पुलिस नक्सलियों के मंसूबों को सफल नहीं होने देगी। डीजीपी ने मुठभेड़ में शामिल होने वाले पुलिसकर्मियों को सम्मानित करने की भी घोषणा की। 
 
गिरफ्तार नक्सली दंपति से नहीं जुड़े तार : डीजीपी वीके सिंह ने बालाघाट में हुई मुठभेड़ के तार भोपाल से गिरफ्तार नक्सली दंपति से जुड़े होने से इंकार कर दिया। डीजीपी ने कहा कि पुलिस पूरे मामले पर बरीकी से नजर रख रही है। पुलिस लंबे समय से दंपति के पूरे मूवमेंट पर नजर रख रही थी।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख कांग्रेस को अब गोवा में मिला जोर का झटका, 15 में से 10 विधायक भाजपा में शामिल