Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Positive Story : 'एप्लिक वर्क' से बनाई साड़ी, 300 महिलाओं को दिया रोजगार, बॉलीवुड अभिनेत्रियां भी इनकी साड़ियों की दीवानी

webdunia
शुक्रवार, 26 नवंबर 2021 (14:40 IST)
-वृषिका भावसार
कोरोना के मामलों में गिरावट के साथ ही कारोबार में एक बार फिर तेजी आ गई है। 1971 में पाकिस्तान से भारत आए गेनाजी सुथार के पुत्र विष्णुभाई सुथार अब अपनी कला में नवोन्मेषी शोध कर 22 गांवों की 300 से अधिक महिलाओं को रोजगार दे रहे हैं। वे इस समय अपने घर में साड़ी से लेकर कालीन, पर्दे, तकिए, चादर तक का सामान बना रहे हैं। उनके द्वारा बनाई गई साड़ियां बॉलीवुड अभिनेत्रियों द्वारा पहनी जाती हैं। इस कारोबार में उनका सालाना 20 लाख रुपए से ज्यादा का कारोबार है।
 
लॉकडाउन के दौरान जब कारोबार बंद था तो बड़ी दिक्कत हुई थी। इस समय विष्णुभाई ने मास्क बनाना शुरू किया। उन्होंने अपने पास बचे हुए कपड़े से मास्क बनाने के लिए महिलाओं को काम पर रखा था। उन्होंने अपने बनाएं मास्क फेसबुक पर डालते इसकी मांग में काफी वृद्धि हुई है।
 
इसमें उन्होंने 2 लाख रुपए से ज्यादा की कमाई की तो वहीं दूसरी ओर जो लोग हैंड लॉरी चला रहे थे उन्हें भी मास्क दिए। ताकि लॉरी चलाकर जीवन यापन करने वालों को रोजगार मिले। उन्हें गुजरात सरकार के हस्तशिल्प विभाग से साड़ी, कालीन, पर्दे, तकिए और चादर जैसी चीजें बनाने के ऑर्डर भी मिले। जिसमें उनका 20 लाख रुपए से ज्यादा का कारोबार था। फिलहाल उन्हें इस विभाग का काम 32 लाख रुपए से ज्यादा में मिला है।
 
webdunia
पारंपरिक शिल्प को पूरे देश में प्रसिद्ध किया : विष्णुभाई के पिता गेनाजी सुथर 1971 में पाकिस्तान के नगरपारकर से पहले राजस्थान के बाड़मेर और फिर बनासकांठा जिले के थरड़ चले गए। वह अपने साथ पाकिस्तान से एक शिल्प भी लाया था, जिसे उनके पुत्र विष्णुभाई सुथार ने बदल दिया है और अपने पारंपरिक शिल्प को पूरे देश में प्रसिद्ध कर दिया है। 
 
विष्णुभाई कहते हैं कि हम जो काम करते हैं उसे 'एप्लिक वर्क' कहते हैं, जो पाकिस्तान में तो है, लेकिन  पूरे भारत में हमारे पास ही है। हम भारत आने से पहले 40 से अधिक वर्षों से कालीन, पर्दे, तकिए, चादरें आदि बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब मैं बड़ा हुआ, तो मैंने अपने पिता से इस 'एप्लिक वर्क' का काम सीखा और अपने रास्ते जाने का फैसला किया।
 
कैसे उत्पाद तैयार करते हैं : यही कारण है कि आज से 12 साल पहले, हमारी अब तक की सभी पीढ़ी में से, मैंने चादर और कवर सहित चीजें बनाने के साथ-साथ साड़ी और पोशाक बनाना शुरू किया। उसके बाद हमने गुजरात सरकार के विभिन्न कार्यक्रमों में प्रदर्शनी लगाना शुरू किया।

थरद से संथालपुर तक 22 गांवों की लगभग 300 महिलाओं को उनके द्वारा बनाई गई साड़ियों और पोशाकों पर डिजाइन के लिए टांके सिलने के लिए काम पर रखा गया है। ये महिलाओं के लिए आजीविका का अवसर प्रदान करने के साथ-साथ उनके काम को आसान बनाने में मदद करते हैं।
 
उन्होंने कहा कि वे उत्पाद तैयार करने के लिए कपड़े लाते हैं और उस पर डिजाइन प्रिंट करते हैं। फिर लकड़ी के बोर्ड पर हथौड़े और छेनी से काट लें। कटे हुए कपड़े के नीचे दूसरा कपड़ा रखकर और ऊपरी कपड़े को मोड़कर टांके लिए जाते हैं और अंत में यह तैयार हो जाता है।
 
बॉलीवुड भी है विष्णुभाई की साड़ियों का दीवाना : विष्णुभाई कहते हैं कि उनकी शिल्पकला से प्रभावित होकर सुनील दत्त की बेटी और संजय दत्त की बहन दिव्या दत्त ने उन्हें अपने घर बुलाया और तरह-तरह की चीजें बनवाईं।
 
विष्णुभाई द्वारा बनाई गई एक साड़ी की कीमत 5 हजार से 50 हजार रुपए तक होती है, जबकि एक पोशाक की कीमत 2 हजार से 5 हजार रुपए तक होती है। उन्होंने अपनी एक ड्रेस रेड फिल्म के डिजाइनर को दी, जो फिल्म की नायिका इलियाना डी क्रूज़ का एक गाना पहने हुए भी दिखाई दे रही है।

उनका कहना है कि कोरोना के समय में शुरुआती आजीविका प्रभावित हुई थी। लेकिन एम्पोरियम के लिए गुजरात सरकार की इकाई गरवी गुर्जरी ने भी अच्छा योगदान दिया और उन दोनों ने बहुत सहयोग किया और उस कठिन समय में भी, उन्होंने जितना हो सके उतना खरीदा।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

राष्ट्रपति बोले, संसद लोकतंत्र का मंदिर, मतभेदों को जनसेवा में बाधक नहीं बनने दें