राजस्थान : विभागों का बंटवारा, गहलोत ने रखे वित्‍त और गृह, पायलट को मिला पीडब्‍ल्‍यूडी विभाग

गुरुवार, 27 दिसंबर 2018 (10:25 IST)
जयपुर। राजस्थान में कांग्रेस सरकार के मंत्रियों के विभागों के बंटवारे को लेकर तीन दिन चली खींचतान के बाद यह मामला सुलझ गया है तथा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने महत्वपूर्ण विभाग वित्त तथा गृह अपने पास रखे हैं। देर रात करीब 2.15 बजे मंत्रियों के विभागों की सूची जारी की गई जिसके अनुसार उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट को सार्वजनिक निर्माण, ग्रामीण विकास पंचायती राज, विज्ञान प्रौद्योगिक और सांख्यिकी विभाग दिए गए हैं।


कैबिनेट मंत्रियों में बीडी कल्ला को ऊर्जा जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी, भू-जल, विभाग दिए हैं। शांति कुमार धारीवाल को स्वायत्त शासन, नगरीय विकास एवं आवासन विभाग दिए हैं। परसादी लाल को उद्योग और राजकीय उपक्रम और मास्टर भंवरलाल मेघवाल को सामाजिक न्याय अधिकारिता, विभाग दिए गए हैं। लालचंद कटारिया को कृषि, पशुपालन, रघु शर्मा को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा तथा प्रमोद भाया को खान विभाग दिए हैं।

विश्वेंद्र सिंह को पर्यटन, तथा हरीश चौधरी को राजस्व विभाग दिए गए है। रमेशचंद मीणा को खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, उदयलाल आंजना को सहकारिता, इंदिरा गांधी नहर परियोजना एवं प्रताप सिंह, खाचरियावास को परिवहन विभाग दिए गए हैं और सालेह मोहम्मद को अल्पसंख्यक मामलात विभाग दिया है। राज्य मंत्रियों में गोविन्द सिंह डोटासरा को शिक्षा प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), पयर्टन, तथा ममता भूपेश को महिला एवं बाल विकास (स्वतंत्र प्रभार), विभाग दिए हैं।

अर्जुन सिंह बामनिया को जनजाति क्षेत्रीय विकास (स्वतंत्र प्रभार) और भंवर सिंह भाटी को उच्च शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) विभाग दिए हैं। सुखराम विश्नोई को वन विभाग (स्वतंत्र प्रभार), पर्यावरण विभाग (स्वतंत्र प्रभार) एवं अशोक चांदना को युवा मामले-खेल (स्वतंत्र प्रभार) सैनिक कल्याण विभाग दिए हैं।

टीकाराम जूली को श्रम विभाग (स्वतंत्र प्रभार) विभाग दिए हैं। भजनलाल जाटव को गृह रक्षा, नागरिक सुरक्षा (स्वतंत्र प्रभार) तथा राजेन्द्र सिंह यादव को आयोजना जनशक्ति (स्वतंत्र प्रभार), और डॉ. सुभाष गर्ग को तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) संस्कृत शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), विभाग दिए गए हैं।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख ई-कॉमर्स कंपनियों पर केंद्र सरकार की नकेल, नियम किए सख्त...